News 6 August 2018

*आज के शैक्षिक समाचार*

1.
पोषाहार की  7-8 अगस्त को होगी गहन जांच रिकॉर्ड गलत मिलने पर होगी सख्त कार्यवाही

विद्यालयों हेतु आवश्यक पूर्व तैयारी कार्य

1 अपने पोषाहार अभिलेख की तुरंत आज ही पूर्ति कर ले।

2 दुग्ध वितरण  रजिस्टर की भी शीघ्र पूर्ति करें।

3 कोई कटिंग रिकॉर्ड में न करे।और रिकॉर्ड में व पोषाहार रजिस्टर का मिलान भौतिक रूप से मौजूद गेहू, चावल, अन्यो से मिलान करे ये ना अधिक हो न कम।

4 मासिक भेजे जाने वाले mdm प्रपत्रो की माहवार ,सत्रवार फ़ाइल में व्यवस्थित करे।

5 कुक कम हेल्पर को किये गए भुगतान के बिलों को माहवार व्यवस्थित फ़ाइल में लगाये
5 दूध योजना में खरीदे सामग्री के बिल वाउचार व भुगतान के चेक प्राप्ति राशिदों व्यवस्थित संबंधित फ़ाइल में रखे।

6 दुग्ध जांच हेतु लैक्टोमीटर अवश्य खरीदे

7 खरीदी सामग्री की स्टॉक एंट्री जांच ले और शीघ्र पूर्ति करें

8 अपनी MDM कैश बुक की शीघ्र पूर्ति करे

9  दिनांक 7.8.18 और 8.8.18 को पोषाहार रसोई की साफ सफाई और मेनू अनुसार भोजन अच्छा पकाये।
10 पोषाहार उपस्थिति रजिस्टर  और लाभान्वित बच्चो का मिलान सही करे।

2.
*सहायक लोको पायलट व तकनीशियन पदों की सीबीटी अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र जारी*


अजमेर।      रेलवे भर्ती बोर्ड द्वारा सहायक लोको पायलट व तकनीशियन के 60 हजार पदों के लिए नौ अगस्त से होने जा रही भर्ती परीक्षा 2018 के एडमिट कार्ड रविवार को जारी कर दिए गए। बोर्ड द्वारा इन पदों के लिए 9 अगस्त से फर्स्ट स्टेज कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट (सीबीटी) शुरू करने जा रहा है। रेलवे की घोषणा के मुताबिक परीक्षा से चार दिन पहले एडमिट कार्ड जारी किए जाने थे।

आरआरबी अजमेर अध्यक्ष आलोक कुमार मिश्र ने कहा कि वेबसाइट पर  प्रवेश पत्र जारी कर दिए गए है और लोगों ने अपलोड करना शुरू कर दिया है। मिश्र ने बताया कि अभ्यर्थियों ने जिस लिंक से पूर्व में परीक्षा सिटी डाउनलोड की थी, उसी लिंक से उन्हें प्रवेश पत्र भी मिल सकेंगे। प्रदेश में नेटबंदी की वजह से ई प्रवेश पत्र डाउनलोड में परेशानी आ रही है। प्रदेश के बाहर अन्य राज्यों में ये डाउनलोड होना शुरू हो गए हैं। प्रदेश में भी जहां-जहां व्यक्तिगत रूप से इंटरनेट चल रहा है, वहां प्रवेश पत्र डाउनलोड हो रहे हैं।
*एक घंटे की होगी परीक्षा*


सामान्य उम्मीदवारों के लिए एक घंटे की परीक्षा होगी। वहीं दूसरी ओर दिव्यांग उम्मीदवारों के लिए 80 मिनट की परीक्षा होगी। प्रश्नपत्र में 75 बहु विकल्पीय प्रश्न पूछे जाएंगे। प्रत्येक प्रश्न के उत्तर में चार विकल्प होंगे। चार में एक सही उत्तर होगा। परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग होगी। हर गलत उत्तर पर 1/3 काट लिया जाएगा। यानी  अगर आपने तीन प्रश्नों का गलत जवाब दिया तो एक नंबर कट जाएगा।
3.
*बोले एक्सपर्ट-कीजिए कम्पनी सचिव कोर्स, चुटकियों में होगा आपका प्लेसमेंट*

*अजमेर*

दयानन्द महाविद्यालय में व्याख्यान हुआ। वाणिज्य विभाग के तत्वावधान में आयोजित व्याख्यान में कम्पनी सचिव कोर्स में रोजगार को लेकर चर्चा हुई। आईसीएसआई नई दिल्ली के सह निदेशक सोनू रोकाटे ने कहा कि कम्पनी सचिव क्षेत्र में रोजगार की विस्तृत संभावनाएं है।

विद्यार्थी कम्पनी सचिव परीक्षा देने के अलावा विभिन्न स्तर पर ग्रुप उत्तीर्ण कर सकते हैं। राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय कम्पनियों, सरकारी और निजी क्षेत्र में रोजगार मिल सकता है। प्राचार्य डॉ. लक्ष्मीकांत ने भी कम्पनी सचिव और वाणिज्य क्षेत्र में रोजगार को लेकर जानकारियां दी। डॉ. मेघना टंडन ने स्वागत किया। इस दौरान सुरेशचन्द सेठी, दीपा हरवानी, श्वेता शर्मा, सुरभि शर्मा और अन्य मौजूद थे।
4.
*तुरन्त भरिए सप्लीमेंट्री एग्जाम फार्म*

महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय की वर्ष 2018 की पूरक परीक्षा फार्म भरने शुरू हो गए हैं। विद्यार्थी ई-मित्र के जरिए ऑनलाइन फार्म भर सकेंगे। पूरक परीक्षा ५ सितम्बर से प्रारंभ होगी।

परीक्षा नियंत्रक प्रो. सुब्रतो दत्ता के अनुसार बीए, बीएससी, बी.कॉम तृतीय वर्ष (पास कोर्स और ऑनर्स), बीपीएड, बीएससी/बीए बीएड प्रथम, द्वितीय और तृतीय वर्ष, चतुर्थ वर्ष (रीजनल कालेज), बीसीए, बीएससी आईटी/कम्प्यूटर साइंस/बायोटेक, नैच्यूरोपैथी एन्ड यौगिक साइंस तृतीय वर्ष के कई विद्यार्थियों के विभिन्न विषयों में पूरक आई है। पूरक परीक्षा के लिए ऑनलाइन फार्म भरने शुरू हो चुके हैं।
5.
http://news.cceguru.com
*तकनीकी विश्वविद्यालय का संघटक कॉलेज बना सीईटी*

*बीकानेर. कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलोजी (सीईटी) को बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय का संघटक कॉलेज बनाया गया है।*
इसके लिए तकनीकी शिक्षा विभाग जयपुर ने आदेश जारी किया है। पिछले ११ सालों से सीईटी व ईसीबी को संघटक कॉलेज बनाने की मांग चल रही है।

जो आखिरकार पूरी हो गई। सीईटी को बीटीयू का संघटक कॉलेज तो बनाया गया लेकिन, ईसीबी को अभी तक संघटक कॉलेज नहीं बनाया गया। कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलोजी, बीकानेर अपनी समस्त सम्पतियों एवं देनदारियों के साथ अब विश्वविद्यालय का संघटक बन गया है।

विश्वविद्यालय प्रशासन ने बताया कि संघटक कॉलेज बनने के साथ ही विश्वविद्यालय अब अपनी बोर्ड ऑफ स्टडीज की बैठक, एकेडमिक काउंसिंल की बैठक, संबद्धता के लिए निरीक्षण दल का गठन, नए कॉर्सेज खोलने व पीएचडी व पीजी कोर्सेज खोल सकते हैं।
वहीं सीईटी के करीब ५५ एसोसिएट प्रोफेसर, असिस्टेंट प्रोफेसर] प्रोफेसर, ३००० विद्यार्थी तथा १०७ अशैक्षणिक कर्मचारी भी बीटीयू के अधीन आ जाएंगे। सीईटी का नाम बदलकर यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलोजी हो गया। प्राचार्य के पद अब डायरेक्टर का पद होगा।

*नए आयाम स्थापित होंगे*

सीईटी को बीटीयू का संघटक कॉलेज बनाने के बाद इसके सारे विकास व कामकाज यूनिवर्सिटी के अंतर्गत होगा। साथ ही सीईटी के कर्मचारी भी बीटीयू में आ जाएंगे।
*प्रो. एच.डी. चारण, कुलपति, बीटीयू बीकानेर*

इस महाविद्यालय को विश्वविद्यालय का संघटक महाविद्यालय बनाए जाने पर बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय बीकानेर क्षेत्र में तकनीकी शिक्षा के नए आयाम स्थापित करेगा।
*डॉ. एसके बंसल, प्राचार्य, सीईटी*
6.
*अदालतों में आरटीआई फीस 100 रूपए, राजस्थान सूचना आयोग ने कहा- कम करो*

*जयपुर।* राजस्थान सूचना आयोग ने हाईकोर्ट सहित प्रदेश की अदालतों में आरटीआई आवेदन शुल्क कम करने को कहा है। प्रदेश में अदालतों में आरटीआई आवेदन शुल्क 100 रूपए है जबकि राज्य सरकार के कार्यालयों में यह फीस महज 10 रूपए है।

*राज्य सूचना आयुक्त आशुतोष शर्मा* ने अपने एक फैसले में सुप्रीम कोर्ट के एक निर्णय के हवाले से उच्च न्यायालय प्रशासन से अपेक्षा की है कि आवेदन शुल्क घटाएं। आयोग के निर्णय की प्रति रजिस्टार, राजस्थान हाई कोर्ट जोधपुर को भेजी गई है।

सूचना आयुक्त शर्मा ने गत दिनों मेड़ता सिटी निवासी अणदाराम चैधरी की द्वितीय अपील निस्तारित करते हुए यह निर्णय दिया। चैधरी ने मुख्य न्यायिक मजिस्टेट, मेड़ता सिटी को 10 रुपए फीस के साथ आरटीआई अर्जी दी थी जो राजस्थान सूचना का अधिकार उच्च न्यायालय एवं अधीनस्थ न्यायालय नियम 2006 के तहत निर्धारित फीस 100 रुपए के ज्यूडिशियल स्टाम्प्स नहीं होने के कारण खारिज कर दी गई। इस पर अणदाराम ने सूचना आयोग में द्वितीय अपील दायर की।

*याद दिलाया सुप्रीम कोर्ट का निर्णय*
सूचना आयुक्त आशुतोष शर्मा ने अपने फैसले में कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों इलाहाबाद हाई कोर्ट से सम्बन्धित प्रकरण में निर्णय दिया है कि आरटीआई आवेदन शुल्क 50 रूपए तथा प्रतिलिपि शुल्क 5 रूपए से ज्यादा नहीं होना चाहिए। इसी आधार पर राजस्थान उच्च न्यायालय प्रशासन को मौजूदा आवेदन फीस 100 रूपए से घटानी चाहिए। शर्मा ने आदेश की प्रति रजिस्टार, हाई कोर्ट को भेजने के भी निर्देश दिए।

*करना होगा नियमों में संशोधन*
उच्च न्यायालय प्रशासन को प्रदेश की अदालतों में आरटीआई आवेदन शुल्क घटाने के लिए राजस्थान सूचना का अधिकार उच्च न्यायालय एवं अधीनस्थ न्यायालय नियम 2006 में संशोधन करना होगा। इन नियमों में ही आरटीआई आवेदन शुल्क 100 रूपए तय किया गया है।
7.
*इंतज़ार जल्द होगा खत्म, RAS PRE-2018 के Answer Key इतने तारीख को हो सकती है जारी*

*जयपुर*

RPSC Rajasthan RAS Pre Exam 2018 अजमेर की ओर से होने वाली आरएएस-प्री परीक्षा को लेकर प्रशासन की ओर से सभी तैयारी कल ही पूरी कर ली गई थी। जो की आज रविवार को सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक होने वाली परीक्षा के लिए आरपीएससी की ओर से आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए थे। परीक्षा केन्द्रों में पहचान सुनिश्चित होने तथा गहन तलाशी के बाद ही परीक्षार्थियों को प्रवेश दिया गया। परीक्षा के दौरान राजस्थान के सभी शहरों में इंटरनेट सेवा भी बंद हैं, ताकि परीक्षार्थियों को परीक्षा देने में कोई परेशानी न हो। इस परीक्षा में फोटो पहचान के लिए मतदान पहचान पत्र, आधार कार्ड, पेन कार्ड, पासपोर्ट और ड्राइविंग लाइसेंस मान्य है।

आरएएस-प्री परीक्षा में हवाई चप्पल और स्लीपर पहनकर गए परीक्षार्थि
पुरुष अभ्यर्थी आधी आस्तीन के शर्ट, टी-शर्ट, कुर्ता, पेंट, पायजामा, हवाई चप्पल और स्लीपर पहनकर आए नज़र वहीं महिला अभ्यर्थी सलवार सूट या साड़ी, आधी आस्तीन का कुर्ता, ब्लाउज, हवाई चप्पल/स्लीपर पहनकर आई। आज सुबह 10 बजे से दोपहर एक बजे तक होने वाली परीक्षा को लेकर जिला प्रशासन की ओर से शहर में बनाए गए 9 केंद्रो पर 3 हजार 72 बच्चों को नामांकित किया गया।

READ: RAS pre exam 2018-लेकर गए कोई सामान तो बढ़ेगी मुसीबत, ड्रेसकोड का रखना पड़ेगा ध्यान

*राजस्थान आरएएस प्री परीक्षा 2018 का रिजल्ट कब होंगे जारी?*
राजस्थान लोक सेवा आयोग के दवारा आरएएस आरटीएस प्रेलिम्स परीक्षा का आयोजन 5 अगस्त को करवाया गया। RAS Prelims 2018 Answer Key 10 अगस्त 2018 को जारी की जा सकती हैं। राजस्थान में चल रहे प्राइवेट कोचिंग संस्था के द्वारा भी आंसर शीट जारी की जाएंगी। जिन अभियार्थियो ने परीक्षा में हिस्सा लिया वो अपनी आंसर शीट ऑफिसियल वेबसाइट के माध्यम से देख सकते हैं।

*बता दें कि पिछले साल का* RAS Pre Expected Cut Off 2018 का 78.54 गया था। अब देखने यह है की पिछले साल के मुकाबले इस बार RAS Cut Off 2018 कितना रहेगा।
8.
 *आरएएस प्री 2018 शांतिपूर्वक संपन्न्, प्रदेश में 1454 सेंटर्स पर कड़ी सुरक्षा में हुई परीक्षा*


Bhaskar

अजमेर के जोंस गंज स्थित सेंटर पर एक महिला अभ्यर्थी परीक्षा केंद्र पर कुर्ते की आधी आस्तीन काटते हुए। इसके बाद उसे परीक्षा में बैठने के लिए भीतर जाने दिया गया।

अजमेर / जयपुर। राजस्थान लोक सेवा आयोग की आरएएस प्री 2018 परीक्षा रविवार को प्रदेशभर में 1454 सेंटर्स पर शांतिपूर्वक संपन्न हुई। परीक्षा को देखते हुए लगाए साइबर कर्फ्यू से प्रदेश के लोग परेशान रहे। परीक्षा केंद्रों पर अभ्यर्थियों की गहनता से जांच की गई। जो महिला अभ्यर्थी पूरी आस्तीन के कमीज पहन कर आईं, उन्हें आधी आस्तीन काट कर ही परीक्षा में शामिल होना पड़ा। परीक्षा शांतिपूर्वक संपन्न होने पर आयोग ने भी राहत की सांस ली है। जयपुर में 327 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा हुई। यहां 1.29 लाख से ज्यादा अभ्यर्थी पंजीकृत थे।

जयपुर व अजमेर समेत प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों, उपखंड और तहसील मुख्यालयों पर 1454 परीक्षा केंद्रों पर यह परीक्षा सुबह 10 बजे शुरू हो गई। प्रदेश के किसी भी जिले से किसी प्रकार की अव्यवस्था की शिकायत आयोग नहीं पहुंचीं। आयोग सचिव पी सी बेरवाल ने बताया कि प्रदेशभर से परीक्षा शांतिपूर्वक संपन्न होने का फीडबैक आयोग को मिला है।

केंद्रों पर नजर आई सख्ती
इधर, परीक्षा केंद्रों पर अभ्यर्थियों के पहुंचने का सिलसिला सुबह 8 बजे पहले ही शुरू हो गया था। आयोग द्वारा तय किए गए ड्रेस कोड से अलग नजर आए अभ्यर्थी सुरक्षाकर्मियों व सेंटर स्टाफ के खास निशाने पर रहे। अजमेर के जोंस गंज स्थित एक परीक्षा केंद्र पर महिला अभ्यर्थी पूरी बांह की कमीज पहन कर पहुंचीं। स्टाफ ने उन्हें केंद्र में प्रवेश देने से मना कर दिया। बाद में महिला अभ्यर्थी ने अपने ही हाथ से कमीज की आधी आस्तीन काटी, इसके बाद उसे परीक्षा में बैठने के लिए केंद्र में जाने दिया गया। कुछ और केंद्रों से भी इस तरह की शिकायतें मिली हैं। एक परीक्षा केंद्र पर अभ्यर्थी बनियान में परीक्षा देता मिला है।

*गले और कानों के जेवरात उतरवाए*

इधर, महिला अभ्यर्थियों द्वारा पहने कानों व गले के जेवरात भी सुरक्षा कर्मियाें ने उतरवा दिए। कई अभिभावक वाहनों की चाबियों से कानों की बालियां आदि तोड़ते नजर आए। इधर, जो भी सामान अभ्यर्थी लेकर पहुंचे, उसे सेंटर के बाहर ही रखवा दिया गया।
जयपुर में भी कई सेंटर्स पर परीक्षार्थी फोटो लाना भूल गए तो कोई फोटो पहचान पत्र लाना भूल गया। कई परीक्षार्थी सेंटर पर जूते पहनकर पहुंचे, जिन्हें परीक्षा केन्द्र के बाहर ही जूते उतारने पड़े।

*9 की बजाए 10 बजे से बंद हुआ नेट*

परीक्षा के एक घंटे पूर्व यानी 9 बजे से इंटरनेट सेवा बंद करने की घोषणा की गई थी, लेकिन अजमेर में इंटरनेट सेवा 10 बजे से बंद हुई। नेट बंद रहने से जनजीवन पर व्यापक असर पड़ा। लोग परेशान रहे। जयपुर, अजमेर, कोटा, जोधपुर, झुंझुनूं, सीकर, अलवर, टोंक, भीलवाड़ा, नागौर और दौसा जिलों में सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक करीब 4 घंटे तक इंटरनेट सेवा बंद रही। इससे पहले 14-15 जुलाई को कांस्टेबल भर्ती परीक्षा की वजह से इंटरनेट बंद रखा गया था।
9.
*राजस्थान के प्रश्नों में उलझे अभ्यर्थी... 60 प्रतिशत अभ्यर्थियों ने दी आरएएस परीक्षा*


Patrika
धीरेन्द्र जोशी/उदयपुर.

राजस्थान लोक सेवा आयोग, अजमेर की ओर से रविवार को राजस्थान राज्य एवं अधीनस्थ सेवाएं संयुक्त प्रतियोगी प्रारंभिक (आरएएस-प्री) परीक्षा-2018 हुई। इसमें शहर के 104 केंद्रों पर नामांकन से ६० प्रतिशत अभ्यर्थियों ने परीक्षा की। परीक्षा को लेकर प्रशासन ने पूर्व में सभी तैयारियां कर ली थी। परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों के शहर में आने का दौर शनिवार रात से ही शुरू हो गया। सुबह तय समय से पूर्व ही अभ्यर्थी विभिन्न केंद्रों पर पहुंचे। मौजूद प्रशासनिक अधिकारियों, पुलिस और अन्रू कर्मचारियों ने एक-एक अभ्यर्थी की जांच कर केंद्र में प्रवेश दिया। इसके बाद ठीक १० बजे परीक्षा शुरू हुई। परीक्षा में ३०७२१ अभ्यर्थियों का नामांकन था इसकी एवज में मात्र १८४९६ अभ्यर्थियों ने ही परीक्षा दी। १२२२५ अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे।

*राजस्थान के प्रश्नों में उलझे अभ्यर्थी*

परीक्षा में अधिकांश अभ्यर्थी अन्य प्रदेशों के थे। इधर परीक्षा में कई प्रश्न राजस्थान से संबंधित पूछे गए। एेसे में अभ्यर्थियों का काफी परेशानी हुई। अभ्यर्थियों ने बताया कि हमने जो तैयारी की है उससे अलग प्रश्न पत्र आया है। एेसे में कुछ मुश्किलें हुई।

*अपने वाहनों से पहुंचे अभ्यर्थी*

परीक्षा देने के लिए कई अभ्यर्थी अपने वाहनों से उदयपुर पहुंचे। परीक्षा के बाद उन्होंने उदयपुर भ्रमण किया। कुछ रात को उदयपुर से रवाना हुए तो कुछ एक-दो दिन भ्रमण करने के पश्चात उदयपुर से निकलेंगे।

*अभ्यर्थी की तबीयत बिगड़ी*

भूपालपुरा सेंट पॉल स्कूल में परीक्षा के दौरान एक अभ्यर्थी की तबीयत बिगड़ गई। एेसे में विक्षकों और प्रशासनिक अधिकारियों ने उसे चिकित्सालय पहुंचाया। परीक्षा अनुभाग प्रभारी इंद्रकुमार ममतानी ने बताया कि अभ्यर्थी को चिकित्सालय में पहुंचाने के साथ ही उसके अभिभावकों भी सूचना दी गई

*इंटरनेट ने किया परेशान*

परीक्षा को देखते हुए सुबह ९ से दोपहर १ बजे तक शहर में इंटरनेट बंद रखा गया। एक बजे बाद भी कई निजी कंपनियों का इंटरनेट शुरू नहीं हुआ एेसे में शहरवासियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

*खुलवाए आभूषण*
परीक्षा देने पहुंचे कई अभ्यर्थियों ने प्रवेश पत्र पर अंकित निर्देशों की पालना नहीं की। घड़ी, सोने-चांदी के जेवर, मोबाइल आदि लेकर परीक्षा देने पहुंचे। केंद्रों पर जांच के दौरान सभी वस्तुओं को बाहर ही रखावाया गया। कुछ सेंटरों पर महंगी वस्तुओं को विक्षकों ने संभाला तो कुछ पर अन्य वस्तुओं के साथ ही उन्हें रखा गया।
10.
*बीएड, बीएससी-बीएड आैर बीए-बीएड में प्रवेश के लिए विशेष तीसरी काउंसलिंग आज से*

06 Aug. 2018
Bhaskar

बीएड, बीएससी बीएड आैर बीए बीएड में प्रवेश के लिए तीसरी काउंसलिंग आज से प्रारंभ होगी। राज्यभर के शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालयों मे 20 हजार से अधिक सीटें रिक्त रहने के कारण राजस्थान उच्च न्यायालय ने विशष तृतीय काउंसलिंग आयोजित करवाने के आदेश दिए थे। इसकी अनुपालना मे विशेष तृतीय काउंसलिंग आयोजित की जा रही है।
पीटीईटी समन्वयक प्रो. बीपी सारस्वत ने बताया कि - राजस्थान उच्च न्यायालय ने 3 अगस्त को आदेश पारित कर तीसरी काउंसलिंग कराने के लिए कहा था। बीएड, बीएससी बीएड आैर बीए बीएड की रिक्त सीटों पर प्रवेश के लिए आज से ना ऑनलाइन काउंसलिंग प्रारंभ की जा रही है। अभ्यर्थी 5000 रुपए जमा करवाकर 8 अगस्त तक अपना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। जिन अभ्यर्थियों द्वारा पूर्व में 5000 रुपए जमा करवा कर रजिस्ट्रेशन करवाया जा चुका है, वे 9 अगस्त काे सांय 5 बजे तक कॉलेजों के विकल्प ऑनलाइन भर सकते हैं। अभ्यर्थियोंं को कॉलेज आवंटन की सूचना 10 अगस्त को वेबसाइट पर उपलब्ध करवा दी जाएगी। अभ्यर्थी 10 अगस्त से 14 अगस्त को सांय 4 बजे तक अपना प्रवेश शुल्क ऑनलाइन पेमेंट गेटवे के माध्यम से या आईसीआईसीआई बैंक में चालान के माध्यम से नकद जमा करवाकर 14 अगस्त तक कॉलेज में रिपोर्टिंग कर सकेंगे। इसके बाद रिपोर्टिंग का मौका नहीं दिया जाएगा।
अभ्यर्थी 5000 रुपए जमा करवाकर 8 अगस्त तक करवा सकते हैं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

*प्रवेश परीक्षा देने वाले प्रत्येक विद्यार्थी होंगे शामिल*
प्रो. सारस्वत ने बताया कि विशेष तृतीय काउंसलिंग मे ऐसे सभी अभ्यर्थियों को शामिल किया जाएगा, जिन्होंने इस इस वर्ष प्रवेश परीक्षा दी थी लेकिन अभी तक किसी भी महाविद्यालय में प्रवेश नहीं लिया। ऐसे अभ्यर्थी जो पात्रता परीक्षा का परिणाम नहीं आने के कारण प्रवेश लेने से वंचित रह गये थे अथवा किसी भी कारण से पूर्व की काउंसलिंग में आवंटित महाविद्यालय में प्रवेश नहीं ले पाए थे, ऐसे अभ्यर्थियों को भी इस काउंसलिंग मे अवसर दिया जाएगा।

*यह भी ध्यान दें*
ऐसे अभ्यर्थी जिन्होंने पूर्व में आयोजित हुई प्रथम व द्वितीय काउंसलिंग में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाकर 5000 रुपए रजिस्ट्रेशन शुल्क जमा करवाया था, उन्हें रजिस्ट्रेशन वापस नहीं जमा करवाना होगा। लेकिन ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाकर कॉलेजों के विकल्प वापस ऑनलाइन भरने होंगे।

*परेशानी है तो अभ्यर्थी हेल्पलाइन पर करें संपर्क*
प्रो. सारस्वत ने बताया कि तीसरी काउंसलिंग से जुड़ी सभी जानकारियां पीटीईटी की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। अभ्यर्थियों को किसी तरह की कोई परेशानी है तो वे हेल्पलाइन नंबर 9887358131 पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा पीटीईटी कार्यालय के दूरभाष नंबर 0145-2787083 पर भी संपर्क किया जा सकता है।
11.
*🏆🔮विद्यार्थी ने बीच सत्र में स्कूल छोड़ा तो गुरुजी को देना होगा जवाब*


Patrika
बूंदी.

 विद्यार्थी यदि स्कूल छोड़कर दूसरी जगह जाते हैं तो उसका अब गुरुजी को जवाब देना होगा। जी हां! सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों की अब हर स्तर पर मॉनिटरिंग होगी। जानकारी के अनुसार राजस्थान माध्यमिक शिक्षा परिषद इस तरह की जानकारी जुटा रहा है। इसके निर्देश हाल ही में शिक्षा विभाग को मिले है, जिसकी पालना के आदेश दिए गए है। इसके पीछे परिषद का मानना है कि इससे शिक्षा व्यवस्था में सुधार होगा।

*कहां गया विद्यार्थी बताना होगा*
सत्र 2017—18 में कक्षा 5, 8 और 10 में अध्ययनरत सभी विद्यार्थी सत्र 2018 —19 में उसी विद्यालय की कक्षा 6, 9 और 11 में अध्ययनरत हो ऐसी व्यवस्था संस्था प्रधान और अन्य शिक्षकों को करनी होगी। अगली कक्षा होते हुए भी विद्यार्थी स्कूल छोड़कर चला जाता है तो ऐसी स्थिति में संस्था प्रधान को बताना होगा कि आखिर विद्यार्थी स्कूल छोड़कर क्यों गया। इसके पीछे क्या कारण था। स्कूल छोड़कर जाने वाले विद्यार्थी ने अब किस विद्यालय में प्रवेश लिया है, इसका भी पूरा विवरण जुटाकर संस्था प्रधान परिषद को देगा। ऐसा नहीं करने पर संस्था प्रधान के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

*कक्षा अध्यापक जुटाएंगे जानकारी*
स्कूल छोड़कर जाने वाले विद्यार्थियों की जानकारी कक्षा अध्यापक को जुटानी होगी। अगर विद्यार्थी अध्यनरत विद्यालय से टीसी कटवाता है तो उसके कारणों को बताना होगा, साथ ही विद्यार्थी दूसरे स्कूल जाता है तो शिक्षक को वहां के एसआर नम्बर तक की भी जानकारी देनी होगी। यह जानकारी उन्हें १५ अगस्त तक परिषद को देनी होगी। यहां जानकार सूत्रों ने बताया कि इस बार नामांकन पर सरकार का खासा जोर है।

*ऐसी मिलती हैं शिकायतें*
आए दिन परिषद और शिक्षा विभाग में शिकायतें आती हैं कि शिक्षक समय पर स्कूल नहीं आते या फिर पढ़ाई नहीं होती, जिसकी वजह से अभिभावक बच्चों का स्कूल छुड़ा दूसरे स्कूल में दाखिला करा देते हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। अब हर स्तर पर इसकी मॉनिटरिंग होगी। यदि एक भी विद्यार्थी स्कूल छोड़कर गया तो गुरुजी को इसका जवाब देना होगा।
&विभाग से निर्देश मिले हैं। अगर विद्यार्थी स्कूल छोड़कर जाता है तो क्लास टीचर को उसके स्कूल छोडऩे के कारणों की पूरी जानकारी देनी होगी। यह जानकारी १५ अगस्त तक परिषद को मुहैया करवानी होगी।
उम्मे हबीबा, कार्यक्रम प्रभारी, राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान, बूंदी
12.
*🏆राजस्थान: कहीं विद्यालय बंद मिले तो कहीं अध्यापक नदारद, देखिए कैसे उड़ता है “सर्व शिक्षा अभियान” का मजाक*



करौली/मासलपुर.
सर्व शिक्षा अभियान राजस्थान में कई क्षेत्रों में खरा नहीं उतर पा रहा। ऐसे बहुत से स्कूल अभी भी हैं जहां या तो विद्यार्थी पढ़ने नहीं जा रहे या फिर शिक्षक ड्यूटी पर नहीं मिलते।
मासलपुर में रामराज मीणा ने जब क्षेत्र के कई विद्यालयों का निरीक्षण किया तो कई अनियमिततााएं पाईं। कहीं विद्यालय बंद मिले तो कहीं अध्यापक नदारद पाए गए। मीणा ने बताया कि अरौदा गांव के राजकीय प्राथमिक विद्यालय पर ताला लटका मिला। दोपहर १२ बजे तक विद्यालय में एक भी शिक्षक व छात्र नही मिला। केशपुरा गांव के राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय में नामांकन के अनुरूप छात्र नहीं मिले। इस पर उन्होंने प्रधानाध्यापक को आवश्यक निर्देश दिए।इसी प्रकार खूंडऱी के उच्च प्राथमिक विद्यालय में २ अध्यापक नदारद मिले।
यहां ७ में से ५ अध्यापक ही उपस्थित मिले। छात्रों की उपस्थिति संतोजनक पाई गई। इसी प्रकार, विरहटी गांव के प्राथमिक विद्यालय में ३ में से मात्र एक ही शिक्षक ड्यूटी पर पाया गया। जबकि २ शिक्षक विद्यालय से नदारद मिले। मीना ने कस्बे में कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय का निरीक्षण भी किया। विद्यालय में सफाई अन्य व्यवस्थाएं दुरुस्त पाई गई। विद्यालय में छात्राओं का नामांकन शत-प्रतिशत मिला। मीना ने बताया कि अर्रौदा विद्यालय के प्रधानाध्यापक समेत ड्यूटी से नदारद पाए गए शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया।
शांति भंग करने के आरोप में नौ गिरफ्तार
हिण्डौनसिटी. शांति भंग करने के आरोप में सदर पुलिस ने नौ जनों को गिरफ्तार किया है। इनमें से आठ आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।
सदर थानाप्रभारी रामवीर सिंह ने बताया कि पोंछड़ी निवासी विश्वेन्द्र डागुर झगड़ा कर रहा था, जिसे पुलिस ने शांति भंग करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इसी तरह हलैना के आजाद पुरा निवासी मुकेश जाटव, सूरौठ के आशीष कंडेरा को खेड़ा गांव के तिराहे से झगड़ा करते हुए थाने के एएसआई फत्तेलाल ने शांति भंग करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। गांव जमालपुर में जमीन विवाद को लेकर आमने-सामने हो रहे अनूप सिंह, पप्पू सांई, खरगी जाट, रोहताश जाट, तिमन जाट व दिलीप जाट को मौके पर पहुंची सदर पुलिस ने शांति भंग करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। इनमें से एक अनूप को उपजिला मजिस्ट्रेट ने जमानत पर रिहा कर दिया। अन्य आरोपियों को जमानत अस्वीकार होने पर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।
13.
*🏆🔮त्रिभुज, आयत की राखियों से मिलेगा गणित का ज्ञान*

06 Aug. 2018
Bhaskar

भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक पर्व रक्षाबंधन नजदीक आते ही रंग-बिरंगी राखियों की दुकानें बाजार में सजने लगी हैं, लेकिन सिमोरी स्कूल के बच्चे इस बार रक्षाबंधन पर गणित के ज्ञान के साथ पर्यावरण को बचाने का संदेश देंगे।
स्कूल के बच्चे गणित को आसानी से समझने के लिए गणितीय राखी तैयार कर रहे हैं। इसके पीछे उद्देश्य ज्यामितीय आकृतियों को राखी मेकिंग के माध्यम से समझाना और बच्चों में गणितीय ज्ञान विकास करना है। भीमपुर ब्लाॅक के सिमोरी मिडिल स्कूल के शिक्षक शैलेंद्र बिहारिया पर्यावरण को बचाने के लिए लंबे समय से अभियान चला रहे हैं। अभियान के तहत सिमोरी स्कूल के बच्चों सहित ग्रामीण हर साल सागौन सहित अन्य पेड़ों को राखी बांधकर उसकी रक्षा का संकल्प लेते हैं। इस बार अभियान के तहत गणितीय राखी तैयार की जा रही है।
उन्होंने बताया गणित शिक्षक नितेश मालवी, ममता गौहर के मार्गदर्शन में स्कूल के 23 बच्चें गणितीय राखी तैयार कर रहे हैं। रक्षाबंधन के दिन यह राखी गांव के पास जंगल में जाकर पेड़ों को बांधी जाएगी। उन्होंने बताया गणितीय राखी बनाने के पीछे यह उद्देश्य है बच्चों को आसानी से गणित का ज्ञान भी हो जाए।

*पर्व के बहाने शिक्षा*
सिमोरी स्कूल के बच्चे बना रहे गणितीय राखियां, रक्षाबंधन पर पेड़ों को बांधकर देंगे पर्यावरण का संदेश


*गणित सिखाने के लिए ऐसी बनाई जा रही राखियां*
स्कूल के गणित शिक्षकों के मार्गदर्शन में बच्चे त्रिभुज, आयत, वर्ग, ग्लोब, बेलन, पृथ्वी वाली आकृति की राखी तैयार कर रहे हैं। जिससे बच्चों को ज्यामिति आकृति के ज्ञान के साथ पर्यावरण को भी बचा सके। उन्होंने बताया ज्यामितीय आकृतियों को राखी मेकिंग के माध्यम से समझाना और गणितीय ज्ञान के विकास के लिए राखी बनाई जा रही है।
14.
*🏆🔮रीट से पहले शिक्षक द्वितीय श्रेणी भर्ती के चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति की मांग*

Dainikbhaskar
भास्कर संवाददाता

 मेड़ता सिटी (आंचलिक)
मेड़ता क्षेत्र के रीट लेवल द्वितीय के चयनित अभ्यर्थियों ने शुक्रवार को एसडीएम हीरालाल मीणा को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया। इसमें रीट से पूर्व द्वितीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2016 के चयनित शिक्षकों को नियुक्ति देने की मांग की है। अभ्यर्थियों ने ज्ञापन में बताया कि द्वितीय श्रेणी शिक्षक भर्ती का परिणाम पांच माह पहले आ चुका था। जिससे रीट के अभ्यर्थियों को नियुक्ति में परेशानी होगी। ऐसे में द्वितीय श्रेणी शिक्षकों को पहले नियुक्ति दी जाए। वहीं, रीट का परीक्षा परिणाम प्रभावित नहीं होगा। द्वितीय श्रेणी शिक्षकों को नियुक्ति मिलने पर रीट के उत्तीर्ण विद्यार्थियों को नियुक्ति मिलने में सहजता होगी। यदि द्वितीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के उत्तीर्ण विद्यार्थियों को समय रहते नियुक्ति नहीं देने की स्थिति में रीट लेवल द्वितीय के अभ्यर्थियों को खामियाजा भुगतना पड़ेगा। इस मौके पर रामदेव खदाव, राजूनाथ, रामकिशोर, आनंद सिंह, नेमीचंद भाटी, रामकिशोर, दीपक शर्मा और सुरेश माली आदि मौजूद थे।
15.
*इस भर्ती की गलत सूचना हुई वायरल, अभ्यर्थी रहें सतर्क*

Publish: Aug, 05 2018 04:37:31 PM (IST)

 Discom Technical Helper

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

जयपुर। जयपुर, जोधपुर व अजमेर डिस्कॉम में तकनीकी हेल्पर भर्ती के लिए गलत सूचना वायरल कर अभ्यर्थियों को भ्रमित किया जा रहा है। इस गलत सूचना में बोर्ड के जरिए भर्ती पद 2433 बढ़ाकर 5 हजार किए जाने आदि की जानकारी दी जा रही है। इस पर जेवीवीएनएल का लोगो भी लगा हुआ है। हालांकि डिस्कॉम अफसरों के मोबाइल पर भी फर्जी सूचना पहुंची। उन्होंने तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी है। अधिकारियों ने अभ्यर्थियों को आकर्षित करने के लिए कोचिंग सेंटरों से भी फर्जी सूचना फैलान की भी आशंका जताई है।

सावधानी बरतें, धोखाधड़ी से बचें
डिस्कॉम की अधिकृत वेबसाइट व संबंधित अफसर से ही जानकारी प्राप्त करें।

बोर्ड गठन की सूचना आती है तो इसकी जानकारी संबंधित अफसरों को दें।

किसी भी तरह के दस्तावेज या राशि जमा कराने की सूचना ईमेल या अन्य माध्यम से आती है तो भी संबंधित डिस्कॉम से क्रॉस चैक कर लें।

फैक्ट फाइल
2433 पद पर होनी है भर्ती
31 वर्ष है अधिकतम आयु सीमा
10वीं व आईटीआई न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता

भर्ती के लिए किसी बोर्ड का गठन नहीं किया गया है। अभ्यर्थियों को ऐसे संदेश से सचेत रहना चाहिए।

*राकेश शर्मा, मुख्य कार्मिक अधिकारी, जयपुर डिस्कॉम*
16.
पांच साल से अटकी दो हजार फार्मासिस्टों की भर्ती, जबकि 50 हजार को सरकारी नौकरी का इंतजार
जयपुर.  प्रदेश में फार्मेसी में हजारों विद्यार्थी डिप्लोमा व डिग्री करने के बावजूद भी सरकारी नौकरी का इंतजार है और सरकार के वादों से निराश होते नजर आ रहे हैं। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही व अनदेखी के चलते पिछले पांच साल से फार्मासिस्टों की भर्ती अटकी पड़ी है।

वर्ष-2013 में खुद चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ग्रुप-2 ने एक आदेश जारी कर ‘नि:शुल्क दवा योजना’ के तहत संचालित दवा वितरण केन्द्रों पर 2112 फार्मासिस्टों के पदों पर भर्ती करने की स्वीकृति दी थी, लेकिन सरकार के पांच साल पूरे होने को है और भर्ती का अता-पता ही नहीं है। बेरोजगारों को डर है कि जल्दी यह भर्ती शुरू नहीं हुई तो राज्य में होने वाले विधानसभा चुनावों की आचारसंहिता लागू हो जाएगी और भर्ती फिर लंबे समय के लिए अटक जाएगी। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि राजस्थान राज्य अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड को विज्ञप्ति जारी करने के लिए फाइल भेजी जा चुकी है। राजस्थान फार्मेसी काउंसिल में मौजूदा स्थिति में करीबन 50 हजार रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट है।



इस कारण से अटकी यह भर्ती: फार्मासिस्टों पदों पर भर्ती अटकने के कारणों में पहले तो पदों की  स्वीकृत नहीं मिलना,फिर विधानसभा चुनाव की  आचारसंहिता लागू और मेरिट या लिखित परीक्षा के जरिए भर्ती जैसे कारणों से अटकी थी। अब केबिनेट में लिखित परीक्षा के जरिए भर्ती कराने के निर्णय के बाद रास्ता साफ हो गया है। फिर भी अभी तक भर्ती की प्रक्रिया शुरू नहीं हो सकी है।



दवा वितरण केन्द्र 17 हजार और दवा बांटने वाले  2700:  प्रदेश में नि:शुल्क दवा योजना के तहत सरकारी अस्पतालों में 17 हजार दवा वितरण केन्द्र संचालित हैं,  जबकि इनमें दवा बांटने वाले सिर्फ 2700 फार्मासिस्ट हैं। इससे सवाल उठता है कि शेष केन्द्रों पर दवा कौन बांट रहा है। फार्मा यूथ वेलफेयर संस्थान के अध्यक्ष प्रवीण कुमार सैन का कहना है कि फार्मेसी एक्ट 1948 के नियमानुसार जहां भी दवा का वितरण व स्टोरेज किया जाता है, वहां पर रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट की उपस्थित में ही दवा बांटी जा सकती है। सरकार को दवा वितरण केन्द्रों के अनुपात में ही पदों पर भर्ती करनी चाहिए।



आरयूएचएस में नर्स ग्रेड सैकंड के 62 पदों पर भर्ती का भी इंतजार:  राजस्थान यूनिवर्सिटी ऑफ हैल्थ साइंस (आरयूएचएस) में साल भर पहले नर्स ग्रेड-सैकंड के 62 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञप्ति जारी की थी। लेकिन अभी तक भर्ती नहीं हुई है। जिसके कारण नर्सेज को कोर्स किए हुए बेरोजगार इधर-उधर भटक रहे हैं। आरयूएचएस इन पदों पर भर्ती के लिए लिखित परीक्षा आयोजित करेगा, लेकिन विद्यार्थियों को किसी तरह की जानकारी नहीं है। हैल्थ साइंस यूनिवर्सिटी के प्रवक्ता डॉ.ए.चौगले का कहना है कि पहले डीसीओ व चिकित्सा अधिकारी के पदों पर भर्ती के चक्कर में मामला अटका था। अब जल्दी भर्ती होगी।



ये भर्ती भी अटकी हुई हैं

- दस्तावेज सत्यापन के बाद भी जूनियर साइंटीफिक के 6 पदों पर नियुक्ति नहीं।
- ड्रग टेस्टिंग लैबों के लिए असिस्टेंट ड्रग एनालिस्ट के 11 पद।
- प्रदेश के ईएसआई अस्पतालों मे फार्मासिस्ट के 80 पदों पर स्वीकृती, लेकिन भर्ती आज तक नहीं।
- दस्तावेज सत्यापन के बावजूद यूनानी नर्सेज के 127 पदों पर नियुक्ति नहीं।
- खाद्य विश्लेषक के 11 पदों के लिए परीक्षा आयोजित होने के बाद मामला कोर्ट में अटका हुआ है।


भर्ती विज्ञप्ति के लिए फाइल भेज दी: चिकित्सा विभाग के अतिरिक्त निदेशक ने फार्मासिस्टों पदों पर भर्ती की विज्ञप्ति जारी करने के लिए राजस्थान राज्य अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड को फाइल भेज दी है। - अजय असवाल, संयुक्त शासन सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य  (ग्रुप-3)



भर्ती का रास्ता साफ: पहले किन्ही कारणों से अटकी थी। लेकिन अब जल्द फार्मासिस्टों पदों पर नियमित भर्ती का रास्ता साफ हो गया है।  - राकेश शर्मा, अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन)
17.
जल्द ही मारवाड़ी में भी सर्च करेगा गूगल, हम भी सर्च इंजन को सिखा सकेंगे मायड़ भाषा
पवन जायसवाल | Aug 06,2018 7:39 AM IST
जल्द ही मारवाड़ी में भी सर्च करेगा गूगल, हम भी सर्च इंजन को सिखा सकेंगे मायड़ भाषा
जोधपुर.  राजस्थानी और मारवाड़ी भाषा को मान्यता दिलाने के संघर्ष के बीच एक अच्छी खबर आई है। विश्व का सबसे पॉपुलर सर्च इंजन गूगल अब मारवाड़ी भाषा में भी काम करेगा। अपणायत भरी मायड़ भाषा को अब गूगल अपने सर्च इंजन का हिस्सा बना रहा है। गूगल जब मारवाड़ी के ट्रांसलेशन की प्रोसेस पूरी कर लेगा तब अन्य क्षेत्रीय भाषाओं की तरह मारवाड़ी भी गूगल पर दिखाई देगी।

 यानी गूगल सर्च के नीचे आने वाले क्षेत्रीय भाषाओं के ऑप्शन में मारवाड़ी भी दिखेगी। व्यक्ति मारवाड़ी भाषा में भी सारे सर्च कर सकेगा। इस पर मारवाड़ी भाषा से संबंधी साहित्य, डिटेल्स से लेकर अन्य सारी सामग्री भी उपलब्ध होगी।  इस प्रोसेस में गूगल को मारवाड़ी के शब्द, साहित्य सहित अन्य सारी जानकारी  विशेषज्ञों से लेकर उपलब्ध करवाई जाएगी। साथ ही लोगों को सीधे भी गूगल में  जानकारी जोड़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। टीम में स्वाति शर्मा,  मेघा फोफलिया सहित अन्य यूथ भी शामिल हैं। गौरतलब है कि अभी गूगल 9 भारतीय  भाषाओं में सर्च करता है। गूगल ने इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी के लिए गूगल डेवलपर ग्रुप की नौशीन खिलजी (27) को एप्रोच किया है। वे जोधपुर के मौलाना आजाद यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस की असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। नौशीन गूगल को मारवाड़ी सिखाने की पूरी प्रोसेस को बतौर को-ऑर्डिनेटर हैंडल करेंगी।



गूगल को मारवाड़ी सिखाने में आप भी ऐसे कर सकते हैं योगदान:  अपने सॉफ्टवेयर में मारवाड़ी को समाहित करने के लिए पहले गूगल को मारवाड़ी सीखने पड़ेगी। यह काम क्राउड सोर्स कम्युनिटी यानी भाषा का जानकार जनसमूह करेगा। करेगी। इस कम्युनिटी में टीचर्स, साहित्यकार, लेखक, आर्टिस्ट्स और स्टूडेंट्स से लेकर भाषा का हर एक जानकार व्यक्ति शामिल होगा। यह लिंक http://crowdsource.google.com/ है जिस पर कोई भी व्यक्ति जाकर गूगल को मारवाड़ी सिखा सकता है।



ट्रांसलेशन के साथ ही वेलिडेशन भी होगा:  क्राउड सोर्स के लिंक से मारवाड़ी भाषा के लिए ना सिर्फ इनपुट दे सकेंगे बल्कि वेलिडेशन भी कर पाएंगे। इस लिंक पर क्लिक करते ही यह आपके जीमेल से लिंक हो जाएगा और कुछ आइकन्स दिखेंगे। इसमें इमेज लेबल्स, कैप्शंस, लैंडमार्क्स, ट्रांसलेशन और ट्रांसलेशन वेलिडेशन का सेक्शन है। लेबल्स वाले सेक्शन के जरिए हम किसी ऑब्जेक्ट को अपनी भाषा में एक इनपुट के रूप में गूगल को बताएंगे। कैप्शन सेक्शन में दी गई फोटो का कैप्शन देना होगा। लैंडमार्क सेक्शन में लैंडमार्क के नाम और ट्रांसलेशन वाले सेक्शन में इंग्लिश टू मारवाड़ी ट्रांसलेशन होगी। इसके बाद ट्रांसलेशन वेलिडेशन का सेक्शन सबसे महत्वपूर्ण है। इसमें एक ही सब्जेक्ट के लिए सबसे ज्यादा वोटेड 4 इनपुट दिखाए जाएंगे जिसमें से हमें बेस्ट चुनना होगा। इस तरह से सबसे उपयुक्त मारवाड़ी भाषा का इनपुट गूगल को मिल पाएगा। 



कॉलेज में होंगे सेशंस: नौशीन ने बताया कि मारवाड़ी को गूगल में ट्रांसलेशन करने के इस प्रोसेस के बारे में गूगल डेवलपर ग्रुप जोधपुर और गूगलर्स की ओर से सिटी के कॉलेजेज में टेक्निकल और नोन टेक्निकल सेशंस भी आयोजित होंगे। कॉलेजेज में स्टूडेंट्स को डेली कुछ समय इस प्रक्रिया में देने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके साथ ही टीचर्स, साहित्यकार, लेखक और मारवाड़ी भाषा के जानकार लोगों को इस प्रोसेस के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।
18.
मतदाता सूचियों में दर्ज करा सकते हैं आपत्तियां व दावे

मतदाता सूचियों में दर्ज करा सकते हैं आपत्तियां व दावे
उनियारा | मतदाता सूची में प्रारूप का प्रकाशन 31 जुलाई को होने के बाद मतदाता सूची में संबधित दावे एवं आपत्तियां संबंधित बीएलओ द्वारा लेने का कार्य शुरू हो गया है। निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण पदाधिकारी कैलाशचंद गुर्जर ने बताया कि द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुर्नरिक्षण अभियान में दावे एवं आपित्तयां लेने की अंतिम तिथि 21 अगस्त है, साथ ही 12 अगस्त एवं 19 अगस्त को सभी बीएलओ मतदान केन्द्रों पर उपस्थित होकर दावे एवं आपत्तियां प्राप्त करेंगे। साथ ही 11 अगस्त व 15 अगस्त को मतदाता सूचियों के संबंधित भाग की प्रविष्टियां का ग्रामसभा, स्थानीय निकाय के साथ बैठक कर पठन एवं सत्यापन किया जाएगा।
19.
दूध योजना की हकीकत जानने कल से स्कूलों का निरीक्षण करेंगे अधिकारी

दूध योजना की हकीकत जानने कल से स्कूलों का निरीक्षण करेंगे अधिकारी
उदयपुर | मिड डे मील और अन्नपूर्णा दूध योजना की वास्तविकता जानने के लिए जिले में 7 और 8 अगस्त को जिला प्रशासन से लेकर शिक्षा विभाग के अधिकारी निरीक्षण करेंगे। स्कूलों में भोजन और दूध की गुणवत्ता तथा व्यवस्था के बारे में विशेष रूप से जांच की जाएगी। प्रमुख शासन सचिव नरेश पाल गंगवार ने सभी कलेक्टरों को पत्र लिखकर योजनाओं के औचक निरीक्षण के निर्देश जारी किए हैं। जिलेवार विशेष निरीक्षण दलों का गठन करना होगा।
20.
पेंशनर्स अपनी पेंशन संशोधित कराएं

पेंशनर्स अपनी पेंशन संशोधित कराएं
टोडारायसिंह| राज्य व केन्द्र सरकार से 1 जनवरी 2016 से पूर्व सेवानिवृत हुए सभी पेंशनर्स अपनी पेंशन को संशोधित कराने की सुनिश्चितता करे। पेंशनर्स समाज के अध्यक्ष हनुमान प्रसाद कुर्मी ने बताया पेंशन संशोधित कराने के लिए एक प्रार्थना पत्र पेंशनर्स समाज के टोडारायसिंह अध्यक्ष के पास से प्राप्त कर मय पीपीओ के शीघ्र फार्म जमा करा दे।

लाभान्वित योजनाओं की जानकारी दी

राजमहल| क्षेत्र के नयागांव में रविवार को विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। पेनल अधिवक्ता बंशीलाल कलवार ने बताया कि इसमें गरीबी उन्मूलन योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए विधिक सेवाएं योजना 2015 की जानकारी दी गई।
21.
स्कूली बच्चों की खींची तस्वीरों की फोटो प्रदर्शनी का शुभारंभ

स्कूली बच्चों की खींची तस्वीरों की फोटो प्रदर्शनी का शुभारंभ
टोंक. अजीम-प्रेमजी फाउण्डेशन में मौजूद अजीम-प्रेमजी फाउण्डेशन से जुडे लोग एवं प्रबुद्ध नागरिक।

टोंक| अजीम प्रेमजी फाउंडेशन में रविवार को ग्राम पंचायत बमोर सरपंच सुनीता बैरवा ने चौखटों से पार फोटो प्रदर्शनी का शुभारंभ फोटो खिंचकर किया। जिसमें प्रारंभिक कक्षा के बच्चों की खींची तस्वीरों एवं उनके अनुभवों को साझा किया जा रहा हैं। प्रदर्शन में बच्चों ने कई विषयों पर स्वैच्छिक कार्य करते हुए फोटोग्राफी और वैचारिक प्रक्रिया से इस प्रदर्शनी तक कि यात्रा तय की हैं। जिसमें श्रीरामपुर पश्चिम बंगाल के अरिजीत सैन ने बच्चों के साथ तकनीकी और वैचारिक प्रक्रिया पर नवंबर 2017 से 10 महीने की यात्रा तय की हैं। प्रदर्शन में सचिन, आशीष, प्रिया, सुमन रैगर, सूरज, अंजली, नीतू, सुमन चौधरी, आशु, कविता के साथ मिलकर फ़ोटो प्रदर्शित किये। प्रदर्शनी आमजन के लिए सात अगस्त तक शाम 6 बजे तक निशुल्क खुली रहेगी।

*सीसीई गुरु*

Post a Comment

0 Comments