खसरा रुबेला संबंधी महत्वपूर्ण जानकारी




*खसरा रोग क्या है*- 

खसरा एक वायरस से होने वाला एक घातक रोग है जिससे बच्चो मे विकलांगता या मृत्यु हो सकती है।यह अत्यधिक संक्रामक होता है जो संक्रमित व्यक्ति के खासने ओ छिकने से फैलता है  !  खसरे के कारण बच्चे मे प्राण घातक जटिलताओ जैसे निमोनिया, दस्त ,मस्तिस्क बुख़ार की सम्भावना बढ़ जाती है ।
खसरे के सामान्य लक्षणों मे जुखाम,बुख़ार,नाक बहना,आखे लाल व पानी आना,लगातार तेज बुखार,चेहरे पर गुलाबी लाल दाने आदी है ।

 **रुबेला क्या है **



रूबैल्ला भी वायरस से होने वाली एक जटिल बीमारी है  जिससे जन्मजात रूबेला सिंड्रोम होता है(CRS)
रूबेला वायरस अगर स्त्री को गर्भावस्था के आरंभ में  संक्रमण होता है तो हो  वो गर्भस्थ शिशु व नवजात के लिए अत्यंत गंभीर व घातक साबित होता है

इसमें बच्चे में जन्मजात विसंगतियां मोतियाबिंद ,बहरापन ,मस्तिष्क का छोटा होना मानसिक मंदता तथा हृदय की बीमारियां हो सकती हैं रूबेला से गर्भवती स्त्री में गर्भपात असमय प्रसव की संभावना बढ़ जाती है

*MR अभियान क्या है*



👉🏻खसरा रूबेला अभियान एक विशेष अभियान है जिसका उद्देश्य सीमित समय सीमा में पूरे राज्य मैं व्यापक रूप से 9 माह से 15 साल आयु वर्ग के सभी बच्चों को खसरा रूबेला टीके द्वारा प्रति रक्षित करना है !
👉🏻अभियान के दौरान राज्य में मौजूद सभी 9 माह से 15 वर्ष के सभी बच्चों को मीजल्स रूबेला का टीका लगाया जाएगा चाहे उन्हें पहले यह टीका लगा हो या नहीं लगा हो 👉🏻अभियान का लक्ष्य तत्कालिक आधार पर जनसंख्या को खसरा और रूबेला से प्रतिरक्षित करना है!
ताकि खसरे के कारण मृत्यु और जन्म जात रूबेला सिंड्रोम(CRS) की संभावनाएं मुख्य रूप से घट जाए। तथा समुदाय में लक्षित आयु वर्ग के बच्चों का 100 प्रतिशत टीकाकरण पूरा हो जाए !

*एमआर का टीका किन बच्चों को लगाना है* 

👉🏻9 माह से 15 वर्ष के सभी बच्चे( कुपोषित बच्चों का प्राथमिकता के आधार पर) 👉🏻मामूली बीमारियों से पीड़ित बच्चे जिन्हें हल्का संक्रमण दस्त एवं हल्का बुखार हो!
*टीके किन स्थानों पर लगाए जाते हैं*
👉🏻प्रथम 2 सप्ताह स्कूलों में
अगले
👉🏻2 सप्ताह  गांव में शहरों के आउटरीच स्तरों एवं मोबाइल पोस्ट टीम द्वारा स्कूल नही जाने वाले बच्चों और छूटे हुए बच्चों का
👉🏻टीकाकरण चौथा सप्ताह तात्कालिक सुविधाएं निगरानी के दौरान किसी स्थान पर 4 या उससे ज्यादा छूटे हुए बच्चों का टीकाकरण

 *किन बच्चों के टीके नहीं लगाने हैं*



1बच्चे को तेज बुखार या अन्य गंभीर बीमारी है !
2बेहोशी दौरे  आना बच्चा अस्पताल में भर्ती है
3 पहले कभी खसरा रूबेला के टीको से गंभीर अलर्जी प्रतिक्रिया का इतिहास  !

*सत्र का समय एवं अवधि*

 अभियान 22 जुलाई से शुरू होगा अतः स्कूलों के निर्धारित समय अनुसार होगा
*विशेष* टीका लगाने के पश्चात बच्चे को प्रमाण पत्र दिया जाएगा अतः बाएं हाथ के अंगूठे के नाखून पर निशान लगाया जाएगा
 अन्य टीको की भांति मीजल्स रूबेला का टीका  भी पूर्णतया सुरक्षित है !!


Post a Comment

2 Comments

  1. टीका खाली पेट या खाने के बाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. खाना खाने के बाद लगाना है जी

      Delete