100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन : आज की गतिविधियाँ

100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन : आज की गतिविधियाँ

बालवाटिका से आठवी कक्षा तक पढने वाले बच्चों के लिए 100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन


बालवाटिका से कक्षा 8 तक के स्तर के विद्यार्थियों को पठन गतिविधियों में तन्मयता एवं मनोरंजनात्मक तरीकों से समन्वित करने के उद्देश्य से शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार ने 100 दिनों की एक कार्य-योजना निर्धारित की है; जिसका क्रियान्वयन प्रत्येक विद्यालय में किया जाना है |
कृपया ध्यान दीजिए कि अधोलिखित समस्त गतिविधियाँ रीडिंग कैंपेन की बुकलेट के आधार पर तृतीय पक्ष (सीसीई गुरु) द्वारा सुझाई गयी हैं |
यहाँ पर हम भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे 100 दिवसीय पठन अभियान की दैनिक गतिविधियों के बारे जानेंगे :

Reading Campaign : तेरहवें सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

28.

03.

2022

I

II

III

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

जयललिता की सासू माँ : कर्नाटक की लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज  सरदार वल्लभभाई पटेल पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

सरदार वल्लभभाई पटेल से संबंधित पुस्तकें :

सरदार वल्लभभाई पटेल व्यक्ति एवं विचार - एन.सी.मेहरोत्रा, रंजना कपूर

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

 

खबरों की खबर लेना : (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों को समाचार पत्र में से कुछ निश्चित समूह के शब्द ढूँढने के लिए कहा जाए | जैसे कि आज उन्हें किसी खेल से संबंधित शब्द चुनने के लिए कहा जाए |

अब विद्यार्थी निर्धारित पत्र / पत्रिका में से ऐसे शब्द चुनकर लिखेंगे |

विद्यार्थी इस आलेख अथवा समाचार को भी सुरक्षित सहेजकर रखेंगे |

इन चुने हुए शब्दों को मिलाकर एक गद्यांश का निर्माण भी करेंगे |

29.

03.

2022

I

II

III

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

जब पेड़ चलते थे अंडमान निकोबार की लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज लालबहादुर शास्त्री पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

लाल बहादुर शास्त्री से संबंधित पुस्तकें :

शास्त्री जी को इस कहानी से छुट्टी दो... - अरुण कान्त शुक्ला

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

 

खबरों की खबर लेना : (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों को समाचार पत्र में से कुछ निश्चित समूह के शब्द ढूँढने के लिए कहा जाए | जैसे कि आज उन्हें फसलों से संबंधित शब्द चुनने के लिए कहा जाए |

अब विद्यार्थी निर्धारित पत्र / पत्रिका में से ऐसे शब्द चुनकर लिखेंगे |

विद्यार्थी इस आलेख अथवा समाचार को भी सुरक्षित सहेजकर रखेंगे |

इन चुने हुए शब्दों को मिलाकर एक गद्यांश का निर्माण भी करेंगे |

30.

03.

2022

I

II

III

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

चटोरी भानुमती: आंध्र प्रदेश की लोक कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज भगत सिंह पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

भगत सिंह से संबंधित पुस्तकें :

मैं बंदूकें बो रहा हूं – संकलित

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

 

खबरों की खबर लेना : (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों को समाचार पत्र में से कुछ निश्चित समूह के शब्द ढूँढने के लिए कहा जाए | जैसे कि आज उन्हें तरल (डीजल / पेट्रोल) से संबंधित शब्द चुनने के लिए कहा जाए |

अब विद्यार्थी निर्धारित पत्र / पत्रिका में से ऐसे शब्द चुनकर लिखेंगे |

विद्यार्थी इस आलेख अथवा समाचार को भी सुरक्षित सहेजकर रखेंगे |

इन चुने हुए शब्दों को मिलाकर एक गद्यांश का निर्माण भी करेंगे |

31.

03.

2022

I

II

III

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

चालीस भाइयों की पहाड़ी : कश्मीरी लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज चन्द्र शेखर आजाद पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

चन्द्र शेखर आजाद से संबंधित पुस्तकें :

दुश्मन की गोलियां – संकलित

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

 

खबरों की खबर लेना : (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों को समाचार पत्र में से कुछ निश्चित समूह के शब्द ढूँढने के लिए कहा जाए | जैसे कि आज उन्हें वित्त से संबंधित शब्द चुनने के लिए कहा जाए |

अब विद्यार्थी निर्धारित पत्र / पत्रिका में से ऐसे शब्द चुनकर लिखेंगे |

विद्यार्थी इस आलेख अथवा समाचार को भी सुरक्षित सहेजकर रखेंगे |

इन चुने हुए शब्दों को मिलाकर एक गद्यांश का निर्माण भी करेंगे |

01.

04.

2022

I

II

III

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

निन्यानवे का चक्कर : असमिया लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज वीर सावरकर पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

वीर सावरकर से संबंधित पुस्तकें :

वीर सावरकर के जीवन के प्रसंग – संकलित

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

 

खबरों की खबर लेना : (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों को समाचार पत्र में से कुछ निश्चित समूह के शब्द ढूँढने के लिए कहा जाए | जैसे कि आज उन्हें युद्ध से संबंधित शब्द चुनने के लिए कहा जाए |

अब विद्यार्थी निर्धारित पत्र / पत्रिका में से ऐसे शब्द चुनकर लिखेंगे |

विद्यार्थी इस आलेख अथवा समाचार को भी सुरक्षित सहेजकर रखेंगे |

इन चुने हुए शब्दों को मिलाकर एक गद्यांश का निर्माण भी करेंगे |

02.

04.

2022

I

II

III

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

ईचा पूचा: केरल/मलयालम की लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस से संबंधित पुस्तकें :

नेताजी सुभाष चंद्र बोस  की जीवनी - संकलित

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

 

खबरों की खबर लेना : (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों को समाचार पत्र में से कुछ निश्चित समूह के शब्द ढूँढने के लिए कहा जाए | जैसे कि आज उन्हें उनके राज्य से संबंधित शब्द चुनने के लिए कहा जाए |

अब विद्यार्थी निर्धारित पत्र / पत्रिका में से ऐसे शब्द चुनकर लिखेंगे |

विद्यार्थी इस आलेख अथवा समाचार को भी सुरक्षित सहेजकर रखेंगे |

इन चुने हुए शब्दों को मिलाकर एक गद्यांश का निर्माण भी करेंगे |



Reading Campaign : बारहवें सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

21.

03.

2022

I

II

III

सब कुछ छोड़ो और पढो :

इस गतिविधि के लिए 20 मिनट का समय निर्धारित किया गया है | इस समय में न केवल विद्यार्थियों को अपितु विद्यालय के समस्त कर्मचारियों को भी 20 मिनट के लिए पढना है | पढ़ने के लिए पुस्तकों, पत्रिकाओं अथवा समाचार पत्रों का भी समावेश किया जा सकता है |

यह गतिविधि तीनों समूह (बालवाटिका से लेकर कक्षा 8 तक ) के विद्यार्थियों द्वारा की जानी है |

 

कविता पठन (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों से उनकी पसंद की कविता पढ़ने के लिए कहा जाएगा |

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में उन्हें मिलती जुलती कविता का निर्माण करने के  लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जाए |

22.

03.

2022

I

II

III

सब कुछ छोड़ो और पढो :

इस गतिविधि के लिए 20 मिनट का समय निर्धारित किया गया है | इस समय में न केवल विद्यार्थियों को अपितु विद्यालय के समस्त कर्मचारियों को भी 20 मिनट के लिए पढना है | पढ़ने के लिए पुस्तकों, पत्रिकाओं अथवा समाचार पत्रों का भी समावेश किया जा सकता है |

यह गतिविधि तीनों समूह (बालवाटिका से लेकर कक्षा 8 तक ) के विद्यार्थियों द्वारा की जानी है |

 

कविता पठन (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों से उनकी पसंद की कविता पढ़ने के लिए कहा जाएगा |

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में उन्हें मिलती जुलती कविता का निर्माण करने के  लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जाए |

23.

03.

2022

I

II

III

सब कुछ छोड़ो और पढो :

इस गतिविधि के लिए 20 मिनट का समय निर्धारित किया गया है | इस समय में न केवल विद्यार्थियों को अपितु विद्यालय के समस्त कर्मचारियों को भी 20 मिनट के लिए पढना है | पढ़ने के लिए पुस्तकों, पत्रिकाओं अथवा समाचार पत्रों का भी समावेश किया जा सकता है |

यह गतिविधि तीनों समूह (बालवाटिका से लेकर कक्षा 8 तक ) के विद्यार्थियों द्वारा की जानी है |

 

कविता पठन (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों से उनकी पसंद की कविता पढ़ने के लिए कहा जाएगा |

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में उन्हें मिलती जुलती कविता का निर्माण करने के  लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जाए |

24.

03.

2022

I

II

III

सब कुछ छोड़ो और पढो :

इस गतिविधि के लिए 20 मिनट का समय निर्धारित किया गया है | इस समय में न केवल विद्यार्थियों को अपितु विद्यालय के समस्त कर्मचारियों को भी 20 मिनट के लिए पढना है | पढ़ने के लिए पुस्तकों, पत्रिकाओं अथवा समाचार पत्रों का भी समावेश किया जा सकता है |

यह गतिविधि तीनों समूह (बालवाटिका से लेकर कक्षा 8 तक ) के विद्यार्थियों द्वारा की जानी है |

 

कविता पठन (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों से उनकी पसंद की कविता पढ़ने के लिए कहा जाएगा |

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में उन्हें मिलती जुलती कविता का निर्माण करने के  लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जाए |

25.

03.

2022

I

II

III

सब कुछ छोड़ो और पढो :

इस गतिविधि के लिए 20 मिनट का समय निर्धारित किया गया है | इस समय में न केवल विद्यार्थियों को अपितु विद्यालय के समस्त कर्मचारियों को भी 20 मिनट के लिए पढना है | पढ़ने के लिए पुस्तकों, पत्रिकाओं अथवा समाचार पत्रों का भी समावेश किया जा सकता है |

यह गतिविधि तीनों समूह (बालवाटिका से लेकर कक्षा 8 तक ) के विद्यार्थियों द्वारा की जानी है |

 

कविता पठन (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों से उनकी पसंद की कविता पढ़ने के लिए कहा जाएगा |

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में उन्हें मिलती जुलती कविता का निर्माण करने के  लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जाए |

26.

03.

2022

I

II

III

सब कुछ छोड़ो और पढो :

इस गतिविधि के लिए 20 मिनट का समय निर्धारित किया गया है | इस समय में न केवल विद्यार्थियों को अपितु विद्यालय के समस्त कर्मचारियों को भी 20 मिनट के लिए पढना है | पढ़ने के लिए पुस्तकों, पत्रिकाओं अथवा समाचार पत्रों का भी समावेश किया जा सकता है |

यह गतिविधि तीनों समूह (बालवाटिका से लेकर कक्षा 8 तक ) के विद्यार्थियों द्वारा की जानी है |

 

कविता पठन (केवल समूह III के लिए ) :

विद्यार्थियों से उनकी पसंद की कविता पढ़ने के लिए कहा जाएगा |

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में उन्हें मिलती जुलती कविता का निर्माण करने के  लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जाए |



Reading Campaign : ग्यारहवें सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

14.

02.

2022

I

जादुई करतब :

अध्यापक जी जादू के मंच जैसा दृश्य निर्मित करेंगे एवं जादूगर जैसी पोशाक भी धारण कर सकते हैं |

विद्यार्थियों को कुछ रचनात्मक गतिविधियाँ करने को प्रेरित होंगे |

गुरूजी बने जादूगर :

गुरूजी एक झोला लेंगे तथा उसमें कुछ पक्षियों के चित्र (छोटे छोटे प्ले कार्ड जो विद्यालय के TLM / रीडिंग रूम / आंगनबाडी में हाल ही में वितरित किये गए किट में उपलब्ध हैं ) रख लेंगे | कार्ड्स के स्थान पर यदि उपलब्ध हो सके तो खिलौने भी काम में लिए जा सकते हैं |

अब विद्यार्थियों को उनके पसंदीदा पक्षी का नाम पूछा जाए | विद्यार्थी के नाम बताते ही अध्यापक जी झोले में हाथ डालकर उस पक्षी का चित्र या खिलौना दिखाएँगे | इस पक्षी के आकार, रंग, भोजन आदि बारे में लघु चर्चा भी की जा सकती है |

II

किताब के कवर पेज से अनुमान लगाना :

विद्यार्थियों को एक-एक पुस्तक वितरित की जा सकती है | विद्यार्थियों को कहें कि वे पुस्तक को खोले नहीं | अब एक-एक विद्यार्थी को खडा किया जाए तथा उससे उसके पास जो पुस्तक है, उसके बारे में उसके विचार सुनें | जैसे कि यह पुस्तक किसके बारे में हो सकती है | यदि कहानी है तो कहानी में क्या-क्या घटनाएँ हो सकती है |

विद्यार्थी अपनी पसंदीदा कहानी के लिए कवर पेज का चित्र भी बना सकते हैं |

III

कहानी को मोड़ देना – पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त... :

अध्यापक जी कोई सस्पेंस थ्रिलर कहानी सुनायेंगे तथा एक हिस्सा सुनाकर आगे की कहानी विद्यार्थियों को अपनी कल्पना के अनुसार सुनाने को कहेंगे |

15.

02.

2022

I

 जादुई करतब :

अध्यापक जी जादू के मंच जैसा दृश्य निर्मित करेंगे एवं जादूगर जैसी पोशाक भी धारण कर सकते हैं |

विद्यार्थियों को कुछ रचनात्मक गतिविधियाँ करने को प्रेरित होंगे |

गुरूजी बने जादूगर :

गुरूजी एक झोला लेंगे तथा उसमें कुछ पक्षियों के चित्र (छोटे छोटे प्ले कार्ड जो विद्यालय के TLM / रीडिंग रूम / आंगनबाडी में हाल ही में वितरित किये गए किट में उपलब्ध हैं ) रख लेंगे | कार्ड्स के स्थान पर यदि उपलब्ध हो सके तो खिलौने भी काम में लिए जा सकते हैं |

अब विद्यार्थियों को उनके पसंदीदा पशु का नाम पूछा जाए | विद्यार्थी के नाम बताते ही अध्यापक जी झोले में हाथ डालकर उस पक्षी का चित्र या खिलौना दिखाएँगे | इस पक्षी के आकार, रंग, भोजन आदि बारे में लघु चर्चा भी की जा सकती है |

II

 किताब के कवर पेज से अनुमान लगाना :

विद्यार्थियों को एक-एक पुस्तक वितरित की जा सकती है | विद्यार्थियों को कहें कि वे पुस्तक को खोले नहीं | अब एक-एक विद्यार्थी को खडा किया जाए तथा उससे उसके पास जो पुस्तक है, उसके बारे में उसके विचार सुनें | जैसे कि यह पुस्तक किसके बारे में हो सकती है | यदि कहानी है तो कहानी में क्या-क्या घटनाएँ हो सकती है |

विद्यार्थी अपनी पसंदीदा कहानी के लिए कवर पेज का चित्र भी बना सकते हैं |

III

 कहानी को मोड़ देना – पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त... :

अध्यापक जी कोई सस्पेंस थ्रिलर कहानी सुनायेंगे तथा एक हिस्सा सुनाकर आगे की कहानी विद्यार्थियों को अपनी कल्पना के अनुसार सुनाने को कहेंगे |

आज अध्यापक जी बहुप्रचलित कछुआ और खरगोश की कहानी सुनायेंगे | कहानी के पश्चात् गुरूजी कहेंगे कि प्यारे बच्चों! कहानी अभी समाप्त नहीं हुई है | खरगोश ने हारने के बाद पुन: कछुए को एक दिन चुनौती दी...

अब आगे विद्यार्थियों को कहानी पूरी करने को कहें तथा उन्हें अपनी कल्पनाशीलता का आनंद उठाने दें !

16.

02.

2022

I

 जादुई करतब :

अध्यापक जी जादू के मंच जैसा दृश्य निर्मित करेंगे एवं जादूगर जैसी पोशाक भी धारण कर सकते हैं |

विद्यार्थियों को कुछ रचनात्मक गतिविधियाँ करने को प्रेरित होंगे |

गुरूजी बने जादूगर :

गुरूजी एक झोला लेंगे तथा उसमें कुछ पक्षियों के चित्र (छोटे छोटे प्ले कार्ड जो विद्यालय के TLM / रीडिंग रूम / आंगनबाडी में हाल ही में वितरित किये गए किट में उपलब्ध हैं ) रख लेंगे | कार्ड्स के स्थान पर यदि उपलब्ध हो सके तो खिलौने भी काम में लिए जा सकते हैं |

अब विद्यार्थियों को उनके पसंदीदा पशु का नाम पूछा जाए | विद्यार्थी के नाम बताते ही अध्यापक जी झोले में हाथ डालकर उस पक्षी का चित्र या खिलौना दिखाएँगे | इस पक्षी के आकार, रंग, भोजन आदि बारे में लघु चर्चा भी की जा सकती है |

II

  किताब के कवर पेज से अनुमान लगाना :

विद्यार्थियों को एक-एक पुस्तक वितरित की जा सकती है | विद्यार्थियों को कहें कि वे पुस्तक को खोले नहीं | अब एक-एक विद्यार्थी को खडा किया जाए तथा उससे उसके पास जो पुस्तक है, उसके बारे में उसके विचार सुनें | जैसे कि यह पुस्तक किसके बारे में हो सकती है | यदि कहानी है तो कहानी में क्या-क्या घटनाएँ हो सकती है |

विद्यार्थी अपनी पसंदीदा कहानी के लिए कवर पेज का चित्र भी बना सकते हैं |

III

 कहानी को मोड़ देना – पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त... :

अध्यापक जी कोई सस्पेंस थ्रिलर कहानी सुनायेंगे तथा एक हिस्सा सुनाकर आगे की कहानी विद्यार्थियों को अपनी कल्पना के अनुसार सुनाने को कहेंगे |

17.

02.

2022

I

 

II

 

III

 

18.

02.

2022

I

 

II

 

III

 

19.

02.

2022

I

  जादुई करतब :

अध्यापक जी जादू के मंच जैसा दृश्य निर्मित करेंगे एवं जादूगर जैसी पोशाक भी धारण कर सकते हैं |

विद्यार्थियों को कुछ रचनात्मक गतिविधियाँ करने को प्रेरित होंगे |

गुरूजी बने जादूगर :

गुरूजी एक झोला लेंगे तथा उसमें कुछ पक्षियों के चित्र (छोटे छोटे प्ले कार्ड जो विद्यालय के TLM / रीडिंग रूम / आंगनबाडी में हाल ही में वितरित किये गए किट में उपलब्ध हैं ) रख लेंगे | कार्ड्स के स्थान पर यदि उपलब्ध हो सके तो खिलौने भी काम में लिए जा सकते हैं |

अब विद्यार्थियों को उनके पसंदीदा फल का नाम पूछा जाए | विद्यार्थी के नाम बताते ही अध्यापक जी झोले में हाथ डालकर उस फल का चित्र या खिलौना दिखाएँगे | इस पक्षी के आकार, रंग, भोजन आदि बारे में लघु चर्चा भी की जा सकती है |

II

  किताब के कवर पेज से अनुमान लगाना :

विद्यार्थियों को एक-एक पुस्तक वितरित की जा सकती है | विद्यार्थियों को कहें कि वे पुस्तक को खोले नहीं | अब एक-एक विद्यार्थी को खडा किया जाए तथा उससे उसके पास जो पुस्तक है, उसके बारे में उसके विचार सुनें | जैसे कि यह पुस्तक किसके बारे में हो सकती है | यदि कहानी है तो कहानी में क्या-क्या घटनाएँ हो सकती है |

विद्यार्थी अपनी पसंदीदा कहानी के लिए कवर पेज का चित्र भी बना सकते हैं |

III

  कहानी को मोड़ देना – पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त... :

अध्यापक जी कोई सस्पेंस थ्रिलर कहानी सुनायेंगे तथा एक हिस्सा सुनाकर आगे की कहानी विद्यार्थियों को अपनी कल्पना के अनुसार सुनाने को कहेंगे |



Reading Campaign : दसवें सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

07.

03.

2022

I

चलो कुछ बनाएं :

अध्यापक जी बिना आग जलाए बनायी जा सकने वाली खाने-पीने योग्य सामग्री का निर्माण करेंगे | इस गतिविधि में अभिभावकों का सहयोग अपेक्षित होगा | विद्यार्थी उक्त विधि को अपनी पुस्तिका में लिख लेंगे अथवा अखबार आदि में से अन्य खाना पकाने वाली विधियों को काटकर पुस्तिका में चिपका सकेंगे |

आज की गतिविधि : शिकंजी बनाना

II

मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी :

विद्यार्थी किसी पेड़, पौधे, नदी आदि को चुनेंगे तथा उसकी जीवन यात्रा (आरंभ से लेकर आज तक के स्वरुप के बारे में बताएँगे )

अन्य सभी विद्यार्थी इस जीवन यात्रा को ध्यान से सुनेंगे |

दादी / नानी की कहानी :

विद्यार्थी अपनी दादी / नानी द्वारा सुनी गयी कहानी समूहवार लिखेंगे | इसके बाद इसे पढ़कर अन्य विद्यार्थियों को सुनायेंगे |

III

स्थानीय वनस्पतियों की खोज :

आज विद्यार्थी किसी स्थानीय पौधे को चुनेंगे तथा उसके बारे में समस्त जानकारियाँ जुटाकर अपनी पुस्तिका में लिखेंगे |

08.

03.

2022

I

 चलो कुछ बनाएं :

अध्यापक जी बिना आग जलाए बनायी जा सकने वाली खाने-पीने योग्य सामग्री का निर्माण करेंगे | इस गतिविधि में अभिभावकों का सहयोग अपेक्षित होगा | विद्यार्थी उक्त विधि को अपनी पुस्तिका में लिख लेंगे अथवा अखबार आदि में से अन्य खाना पकाने वाली विधियों को काटकर पुस्तिका में चिपका सकेंगे |

आज की गतिविधि : भेलपुरी बनाना

II

 मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी :

विद्यार्थी किसी पेड़, पौधे, नदी आदि को चुनेंगे तथा उसकी जीवन यात्रा (आरंभ से लेकर आज तक के स्वरुप के बारे में बताएँगे )

अन्य सभी विद्यार्थी इस जीवन यात्रा को ध्यान से सुनेंगे |


दादी / नानी की कहानी :

विद्यार्थी अपनी दादी / नानी द्वारा सुनी गयी कहानी समूहवार लिखेंगे | इसके बाद इसे पढ़कर अन्य विद्यार्थियों को सुनायेंगे |

III

 स्थानीय वनस्पतियों की खोज :

आज विद्यार्थी किसी स्थानीय फसल को चुनेंगे तथा उसके बारे में समस्त जानकारियाँ जुटाकर अपनी पुस्तिका में लिखेंगे |

09.

03.

2022

I

 चलो कुछ बनाएं :

अध्यापक जी बिना आग जलाए बनायी जा सकने वाली खाने-पीने योग्य सामग्री का निर्माण करेंगे | इस गतिविधि में अभिभावकों का सहयोग अपेक्षित होगा | विद्यार्थी उक्त विधि को अपनी पुस्तिका में लिख लेंगे अथवा अखबार आदि में से अन्य खाना पकाने वाली विधियों को काटकर पुस्तिका में चिपका सकेंगे |

आज की गतिविधि : नमकीन चाट बनाना

II

  मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी :

विद्यार्थी किसी पेड़, पौधे, नदी आदि को चुनेंगे तथा उसकी जीवन यात्रा (आरंभ से लेकर आज तक के स्वरुप के बारे में बताएँगे )

अन्य सभी विद्यार्थी इस जीवन यात्रा को ध्यान से सुनेंगे |


दादी / नानी की कहानी :

विद्यार्थी अपनी दादी / नानी द्वारा सुनी गयी कहानी समूहवार लिखेंगे | इसके बाद इसे पढ़कर अन्य विद्यार्थियों को सुनायेंगे |

III

 स्थानीय वनस्पतियों की खोज :

आज विद्यार्थी किसी स्थानीय फसल को चुनेंगे तथा उसके बारे में समस्त जानकारियाँ जुटाकर अपनी पुस्तिका में लिखेंगे |

10.

03.

2022

I

 चलो कुछ बनाएं :

अध्यापक जी बिना आग जलाए बनायी जा सकने वाली खाने-पीने योग्य सामग्री का निर्माण करेंगे | इस गतिविधि में अभिभावकों का सहयोग अपेक्षित होगा | विद्यार्थी उक्त विधि को अपनी पुस्तिका में लिख लेंगे अथवा अखबार आदि में से अन्य खाना पकाने वाली विधियों को काटकर पुस्तिका में चिपका सकेंगे |

आज की गतिविधि : शरबत बनाना

II

 मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी :

विद्यार्थी किसी पेड़, पौधे, नदी आदि को चुनेंगे तथा उसकी जीवन यात्रा (आरंभ से लेकर आज तक के स्वरुप के बारे में बताएँगे )

अन्य सभी विद्यार्थी इस जीवन यात्रा को ध्यान से सुनेंगे |


दादी / नानी की कहानी :

विद्यार्थी अपनी दादी / नानी द्वारा सुनी गयी कहानी समूहवार लिखेंगे | इसके बाद इसे पढ़कर अन्य विद्यार्थियों को सुनायेंगे |

III

  स्थानीय वनस्पतियों की खोज :

आज विद्यार्थी किसी स्थानीय फूलदार पौधे को चुनेंगे तथा उसके बारे में समस्त जानकारियाँ जुटाकर अपनी पुस्तिका में लिखेंगे |

11.

03.

2022

I

 चलो कुछ बनाएं :

अध्यापक जी बिना आग जलाए बनायी जा सकने वाली खाने-पीने योग्य सामग्री का निर्माण करेंगे | इस गतिविधि में अभिभावकों का सहयोग अपेक्षित होगा | विद्यार्थी उक्त विधि को अपनी पुस्तिका में लिख लेंगे अथवा अखबार आदि में से अन्य खाना पकाने वाली विधियों को काटकर पुस्तिका में चिपका सकेंगे |

आज की गतिविधि : सलाद बनाना

II

  मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी :

विद्यार्थी किसी पेड़, पौधे, नदी आदि को चुनेंगे तथा उसकी जीवन यात्रा (आरंभ से लेकर आज तक के स्वरुप के बारे में बताएँगे )

अन्य सभी विद्यार्थी इस जीवन यात्रा को ध्यान से सुनेंगे |


दादी / नानी की कहानी :

विद्यार्थी अपनी दादी / नानी द्वारा सुनी गयी कहानी समूहवार लिखेंगे | इसके बाद इसे पढ़कर अन्य विद्यार्थियों को सुनायेंगे |

III

 स्थानीय वनस्पतियों की खोज :

आज विद्यार्थी किसी स्थानीय फूलदार पौधे को चुनेंगे तथा उसके बारे में समस्त जानकारियाँ जुटाकर अपनी पुस्तिका में लिखेंगे |

12.

03.

2022

I

 चलो कुछ बनाएं :

अध्यापक जी बिना आग जलाए बनायी जा सकने वाली खाने-पीने योग्य सामग्री का निर्माण करेंगे | इस गतिविधि में अभिभावकों का सहयोग अपेक्षित होगा | विद्यार्थी उक्त विधि को अपनी पुस्तिका में लिख लेंगे अथवा अखबार आदि में से अन्य खाना पकाने वाली विधियों को काटकर पुस्तिका में चिपका सकेंगे |

आज की गतिविधि : रसना बनाना

II

 मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी :

विद्यार्थी किसी पेड़, पौधे, नदी आदि को चुनेंगे तथा उसकी जीवन यात्रा (आरंभ से लेकर आज तक के स्वरुप के बारे में बताएँगे )

अन्य सभी विद्यार्थी इस जीवन यात्रा को ध्यान से सुनेंगे |


दादी / नानी की कहानी :

विद्यार्थी अपनी दादी / नानी द्वारा सुनी गयी कहानी समूहवार लिखेंगे | इसके बाद इसे पढ़कर अन्य विद्यार्थियों को सुनायेंगे |

III

 स्थानीय वनस्पतियों की खोज :

आज विद्यार्थी किसी स्थानीय फूलदार पौधे को चुनेंगे तथा उसके बारे में समस्त जानकारियाँ जुटाकर अपनी पुस्तिका में लिखेंगे |



Reading Campaign : नवें सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

28.

02.

2022

I

मासिक थीम :

थीम पर आधारित गतिविधियाँ वर्षभर आयोजित की जा सकती हैं | किन्तु हम यहाँ पर प्रतिदिन की एक थीम निर्धारित करते हुए ही गतिविधियों का आयोजन करेंगे :

आज की थीम :

आज स्वच्छ भारत अभियान की थीम पर कार्य करेंगे | इस थीम को विद्यार्थियों के पाठ्यक्रम का अंग भी बनाया गया है | आज हम स्वच्छता पर चर्चा करेंगे | यह भी चर्चा करेंगे कि कोरोना के विरुद्ध जंग को बिना स्वच्छता और बिना हाइजीन के नहीं जीता जा सकता था |

आज हम बच्चों की व्यक्तिगत स्वच्छता की जांच करेंगे |

सामूहिक हाथ-धुलाई गतिविधि का आयोजन करेंगे |

अब एक बालगीत बुलवायेंगे –

ता ता थैया, सुनो मेरे भैया |

यूं ही मत चीखो, काम-काज सीखो ||

अगर खाते हो खाना, तो सीखो उसे पकाना |

फट जाते कपड़े तो सीखो उनको सीना ||

काम-काज करते रहो, सुबह शाम पढ़ते रहो...

II

कविता पढ़ना :

अध्यापक जी प्रत्येक विद्यार्थी को एक कविता पढ़ने के लिए देंगे | अथवा कविताओं की पुस्तकों में से उन्हें चुनने देंगे |

विद्यार्थी उस कविता को दो-चार बार बोलेंगे तथा उससे मिलती-जुलती कविता की रचना का प्रयास करेंगे |

अध्यापक जी सभी बालकों को एक कविता सुनाकर भी विभिन्न समूहों से अलग-अलग कविता निर्माण करने के लिए सहयोग प्रदान कर सकते है –

आज की कविता –

एक-एक-एक, है नाक हमारी एक |

दो-दो-दो, हैं हाथ हमारे दो ||

नाक से हम सूंघते हैं, हाथो से करते काम |

बनाओ नई कविता, ले प्रभु का नाम ||

 

विद्यार्थी इस प्रकार से नयी कविता बना सकते हैं –

एक-एक-एक, है जीभ हमारी एक |

दो-दो-दो, हैं पैर हमारे दो ||

जीभ से हम चखते हैं, पैरों से हम चलते हैं |

आओ यारों मिलकर के हम नयी कविता रचते हैं ||

III

एक भारत श्रेष्ठ भारत के लिए पठन :

“एक भारत, श्रेष्ठ भारत” की पहल मूलत: सरदार वल्लभ भाई पटेल ने की थी | अत: भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पटेल जी की 140वीं जयंती पर भारत की एकता और अखंडता को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए दिनांक 31 अक्टूबर 2015 को इस अभियान का शुभारंभ किया |

इस अभियान के तहत आज विद्यार्थी निम्नलिखित पार्टनर स्टेट के बारे में जानकारी एकत्रित करेंगे एवं कोलाज बनायेंगे -

जम्मू – कश्मीर + तमिलनाडु

मध्यप्रदेश + मणिपुर + नागालैंड

उत्तराखंड + कर्नाटक

विद्यार्थी अपनी पाठ्यपुस्तकों तथा पुस्तकालय की पुस्तकों की सहायता ले सकेंगे तथा अध्यापक जी सहायता प्रदान कर सकते हैं |

02.

03.

2022

I

 मासिक थीम :

थीम पर आधारित गतिविधियाँ वर्षभर आयोजित की जा सकती हैं | किन्तु हम यहाँ पर प्रतिदिन की एक थीम निर्धारित करते हुए ही गतिविधियों का आयोजन करेंगे :

आज की थीम :

आज स्वच्छ विद्यालय अभियान की थीम पर कार्य करेंगे | इस थीम को विद्यार्थियों के पाठ्यक्रम का अंग भी बनाया गया है | आज हम स्वच्छता पर चर्चा करेंगे | यह भी चर्चा करेंगे कि कोरोना के विरुद्ध जंग को बिना स्वच्छता और बिना हाइजीन के नहीं जीता जा सकता था |

आज हम बच्चों की व्यक्तिगत स्वच्छता की जांच करेंगे |

सामूहिक हाथ-धुलाई गतिविधि का आयोजन करेंगे |

अब एक बालगीत बुलवायेंगे –

ता ता थैया, सुनो मेरे भैया |

यूं ही मत चीखो, काम-काज सीखो ||

अगर खाते हो खाना, तो सीखो उसे पकाना |

फट जाते कपड़े तो सीखो उनको सीना ||

काम-काज करते रहो, सुबह शाम पढ़ते रहो...

II

 कविता पढ़ना :

अध्यापक जी प्रत्येक विद्यार्थी को एक कविता पढ़ने के लिए देंगे | अथवा कविताओं की पुस्तकों में से उन्हें चुनने देंगे |

विद्यार्थी उस कविता को दो-चार बार बोलेंगे तथा उससे मिलती-जुलती कविता की रचना का प्रयास करेंगे |

अध्यापक जी सभी बालकों को एक कविता सुनाकर भी विभिन्न समूहों से अलग-अलग कविता निर्माण करने के लिए सहयोग प्रदान कर सकते है –

आज की कविता (उद्देश्य : दिशा ज्ञान ) –

एक चिड़िया के बच्चे चार,

घर से निकले पंख पसार |

पूरब से पश्चिम को आये,

उत्तर से दक्षिण को धाये |

घूम लिया ये जग सारा,

अपना घर है सबसे प्यारा...

विद्यार्थी इस प्रकार से नयी कविता बना सकते हैं –

जिस दिशा में उगता सूरज,

वह दिशा है पूरब |

पश्चिम में होता है अस्त,

हम सब सोते होकर मस्त |

उत्तर की ओर हिमालय है,

चलना रोज विद्यालय है |

दक्षिण में सेतु राम का,

लुत्फ़ उठाओ आम का...

III

 एक भारत श्रेष्ठ भारत के लिए पठन :

“एक भारत, श्रेष्ठ भारत” की पहल मूलत: सरदार वल्लभ भाई पटेल ने की थी | अत: भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पटेल जी की 140वीं जयंती पर भारत की एकता और अखंडता को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए दिनांक 31 अक्टूबर 2015 को इस अभियान का शुभारंभ किया |

इस अभियान के तहत आज विद्यार्थी निम्नलिखित पार्टनर स्टेट के बारे में जानकारी एकत्रित करेंगे एवं कोलाज बनायेंगे -

गुजरात + छत्तीसगढ़

हिमाचल प्रदेश + केरल

महाराष्ट्र + ओडिशा

विद्यार्थी अपनी पाठ्यपुस्तकों तथा पुस्तकालय की पुस्तकों की सहायता ले सकेंगे तथा अध्यापक जी सहायता प्रदान कर सकते हैं |

03.

03.

2022

I

 मासिक थीम :

थीम पर आधारित गतिविधियाँ वर्षभर आयोजित की जा सकती हैं | किन्तु हम यहाँ पर प्रतिदिन की एक थीम निर्धारित करते हुए ही गतिविधियों का आयोजन करेंगे :

आज की थीम :

आज हमारा पर्यावरण की थीम पर कार्य करेंगे | इस थीम को विद्यार्थियों के पाठ्यक्रम से जोड़कर भी देखा जाना चाहिए | आज हम पर्यावरण पर चर्चा करेंगे | यह भी चर्चा करेंगे कि पर्यावरण हमारे लिए क्यों आवश्यक है ? और हमारे द्वारा पर्यावरण का संरक्षण किस प्रकार से किया जा सकता है |

आज हम विद्यालय में लगे हुए पेड़-पौधों की जांच करेंगे | किस प्रकार के पौधे से क्या-क्या लाभ हैं तथा उस पेड़ अथवा पौधे की क्या विशेषता है |

सामूहिक हाथ-धुलाई गतिविधि का आयोजन करेंगे |

अब पर्यावरण से संबंधित एक गीत बुलवायेंगे –

प्राणवायु देकर हमें ,वृक्ष बचाएं जान।

पर्यावरण सुधारते ,जैवविविधता मान।

जंगल के रक्षक बनो ,करके ये संकल्प।

हरी भरी अपनी धरा ,पर्यावरण प्रकल्प।

कूड़ा करकट फेंकते ,नदियों में सामान।

फिर बांटे सब ओर हम ,पर्यावरणी ज्ञान।

हिमखंडों का पिघलना ,और सूरज का ताप ।

पर्यावरण मिटा रहा ,मानव करके पाप।

वृक्ष हमारे मित्र हैं ,वृक्ष हमारी जान।

वृक्षों की रक्षा बने ,पर्यावरणी शान।

हरे वृक्ष जो काटते ,उनको है धिक्कार।

पर्यावरण बिगाड़ते ,वो सब हैं मक्कार। (रचनाकार से साभार )

II

 कविता पढ़ना :

अध्यापक जी प्रत्येक विद्यार्थी को एक कविता पढ़ने के लिए देंगे | अथवा कविताओं की पुस्तकों में से उन्हें चुनने देंगे |

विद्यार्थी उस कविता को दो-चार बार बोलेंगे तथा उससे मिलती-जुलती कविता की रचना का प्रयास करेंगे |

अध्यापक जी सभी बालकों को एक कविता सुनाकर भी विभिन्न समूहों से अलग-अलग कविता निर्माण करने के लिए सहयोग प्रदान कर सकते है |

III

 एक भारत श्रेष्ठ भारत के लिए पठन :

“एक भारत, श्रेष्ठ भारत” की पहल मूलत: सरदार वल्लभ भाई पटेल ने की थी | अत: भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पटेल जी की 140वीं जयंती पर भारत की एकता और अखंडता को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए दिनांक 31 अक्टूबर 2015 को इस अभियान का शुभारंभ किया |

इस अभियान के तहत आज विद्यार्थी निम्नलिखित पार्टनर स्टेट के बारे में जानकारी एकत्रित करेंगे एवं कोलाज बनायेंगे -

उत्तर प्रदेश + मेघालय + अरुणाचल प्रदेश

पंजाब + आंध्रप्रदेश

गोवा + झारखंड

विद्यार्थी अपनी पाठ्यपुस्तकों तथा पुस्तकालय की पुस्तकों की सहायता ले सकेंगे तथा अध्यापक जी सहायता प्रदान कर सकते हैं |

04.

003.

2022

I

 मासिक थीम :

थीम पर आधारित गतिविधियाँ वर्षभर आयोजित की जा सकती हैं | किन्तु हम यहाँ पर प्रतिदिन की एक थीम निर्धारित करते हुए ही गतिविधियों का आयोजन करेंगे :

आज की थीम :

आज विविधता में एकता की थीम पर कार्य करेंगे | इस थीम को विद्यार्थियों के चरित्र का अंग बनाया जाना चाहिए | आज हम देश की सांस्कृतिक विविधता पर चर्चा करेंगे | यह भी चर्चा करेंगे कि विविधता के होते हुए भी देश की एकता और अखंडता अक्षुण्ण बनी हुई है |

अब एक गीत बुलवायेंगे –

हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं

रंग रूप वेष भाषा चाहे अनेक हैं

हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं

रंग रूप वेष भाषा चाहे अनेक हैं

बेला गुलाब जूही चम्पा चमेली

प्यारे-प्यारे फूल गूंथे माला में एक हैं

हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं

कोयल की कूक न्यारी पपीहे की टेर प्यारी

गा रही तराना बुलबुल राग मगर एक है

हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं

गंगा यमुना ब्रह्मपुत्र कृष्णा कावेरी

जाके मिल गयी सागर में हुई सब एक हैं

हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं

II

 कविता पढ़ना :

अध्यापक जी प्रत्येक विद्यार्थी को एक कविता पढ़ने के लिए देंगे | अथवा कविताओं की पुस्तकों में से उन्हें चुनने देंगे |

विद्यार्थी उस कविता को दो-चार बार बोलेंगे तथा उससे मिलती-जुलती कविता की रचना का प्रयास करेंगे |

अध्यापक जी सभी बालकों को एक कविता सुनाकर भी विभिन्न समूहों से अलग-अलग कविता निर्माण करने के लिए सहयोग प्रदान कर सकते है |

III

 एक भारत श्रेष्ठ भारत के लिए पठन :

“एक भारत, श्रेष्ठ भारत” की पहल मूलत: सरदार वल्लभ भाई पटेल ने की थी | अत: भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पटेल जी की 140वीं जयंती पर भारत की एकता और अखंडता को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए दिनांक 31 अक्टूबर 2015 को इस अभियान का शुभारंभ किया |

इस अभियान के तहत आज विद्यार्थी निम्नलिखित पार्टनर स्टेट के बारे में जानकारी एकत्रित करेंगे एवं कोलाज बनायेंगे -

लक्षद्वीप + अंडमान निकोबार

हरियाणा + तेलंगाना

राजस्थान + असम

विद्यार्थी अपनी पाठ्यपुस्तकों तथा पुस्तकालय की पुस्तकों की सहायता ले सकेंगे तथा अध्यापक जी सहायता प्रदान कर सकते हैं |

05.

03.

2022

I

 मासिक थीम :

थीम पर आधारित गतिविधियाँ वर्षभर आयोजित की जा सकती हैं | किन्तु हम यहाँ पर प्रतिदिन की एक थीम निर्धारित करते हुए ही गतिविधियों का आयोजन करेंगे :

आज की थीम :

आज भौगोलिक विविधता में एकता की थीम पर कार्य करेंगे | इस थीम को विद्यार्थियों के चरित्र का अंग बनाया जाना चाहिए | आज हम देश की भौगोलिक विविधता पर चर्चा करेंगे | यह भी चर्चा करेंगे कि विविधता के होते हुए भी देश की एकता और अखंडता अक्षुण्ण बनी हुई है |

अब एक गीत बुलवायेंगे –

ये धरती हिन्दुस्तान की, ये धरती हिन्दुस्तान की 

न तेरी न मेरी है, ये बेटी किसी किसान की

खेत में इसके उगे सच्चाई, प्यार भरा खलिहानों में, 

बाग में खुश्बू उड़े चमन की दिया जले तूफानों में।। 

एक साथ ये कदम मिलाये. गीता और पुराण की ।। 

ये धरती हिन्दुस्तान की....

भाव भावना भरत नाट्यम झूमर मणिपुरी की है 

शोखी कत्थक वाली है। और मद्रा कथाकली की है।। 

गले हार तुलसी की माला. वाली है रसखान की।

ये धरती हिन्दुस्तान की....

आँखों में गंगा का पानी वक्षस्थल विन्ध्याचल है।

बालों में बंगाल की बदली, केरल पग की पायल है।। 

पंजाबी चुनरी में दमके पंजाबी चुनरी में दमके बिन्दिया राजस्थान की।

ये धरती हिन्दुस्तान की....

देता है आवाज हिमालय जननी तुझे बुलाती है। 

बदल रहा इतिहास वक्त की चाल बदलती जाती है।। 

पूजन करो वतन की मिट्टी मूरत है भगवान की।।

ये धरती हिन्दुस्तान की...

II

 कविता पढ़ना :

 अध्यापक जी प्रत्येक विद्यार्थी को एक कविता पढ़ने के लिए देंगे | अथवा कविताओं की पुस्तकों में से उन्हें चुनने देंगे |

 विद्यार्थी उस कविता को दो-चार बार बोलेंगे तथा उससे मिलती-जुलती कविता की रचना का प्रयास करेंगे |

 अध्यापक जी सभी बालकों को एक कविता सुनाकर भी विभिन्न समूहों से अलग-अलग कविता निर्माण करने के लिए सहयोग प्रदान कर सकते है |

III

 एक भारत श्रेष्ठ भारत के लिए पठन :

“एक भारत, श्रेष्ठ भारत” की पहल मूलत: सरदार वल्लभ भाई पटेल ने की थी | अत: भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पटेल जी की 140वीं जयंती पर भारत की एकता और अखंडता को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए दिनांक 31 अक्टूबर 2015 को इस अभियान का शुभारंभ किया |

इस अभियान के तहत आज विद्यार्थी निम्नलिखित पार्टनर स्टेट के बारे में जानकारी एकत्रित करेंगे एवं कोलाज बनायेंगे -

दिल्ली + सिक्किम

बिहार + त्रिपुरा + मिजोरम

चंडीगढ़ + पुद्दुचेरी + दादरा और नगर हवेली + दमन एवं दीव

विद्यार्थी अपनी पाठ्यपुस्तकों तथा पुस्तकालय की पुस्तकों की सहायता ले सकेंगे तथा अध्यापक जी सहायता प्रदान कर सकते हैं |


Reading Campaign : आठवें सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

21.

02.

2022

I

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

जयललिता की सासू माँ : कर्नाटक की लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज  सरदार वल्लभभाई पटेल पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

सरदार वल्लभभाई पटेल से संबंधित पुस्तकें :

सरदार वल्लभभाई पटेल व्यक्ति एवं विचार - एन.सी.मेहरोत्रा, रंजना कपूर

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

II

 रंगमंच की सामग्री :

अध्यापक जी रंगमंच एवं साज-सज्जा की सामग्री जैसे - मुकुट, तलवार, बर्तन, दस्ताने, अंगूठी, छड़ी, आदि से भरा हुआ एक थैला तैयार करेंगे अथवा सामग्री का नाम देकर बच्चों को घर से लाने के लिए कहेंगे |

विद्यार्थी थैले में से किसी एक वस्तु का चयन करेंगे | अथवा वस्तुएं बच्चों द्वारा घर से लाने की स्थिति में अध्यापक जी बच्चों को कोई भी एक वस्तु प्रदान करेंगे |

अब प्रत्येक विद्यार्थी उसे प्रदान की गयी सामग्री को किसी की भलाई के लिए उपयोग करने के बारे में लिखेगा |

अब प्रत्येक समूह से एक विद्यार्थी अपनी लिखी गयी रचना को कक्षा के सम्मुख पढ़कर सुनाएगा |

III

 पढ़ें और अभिनय करें :

छात्रों को समूहों में काम करने के लिए सौंपा गया है

उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है

इसके बाद, उन्हें एक के साथ सहयोग करने के लिए कहा जाता है

दूसरा और पूरी कहानी को अधिनियमित करें। इस

प्रदर्शन कला के साथ पठन का एकीकरण

शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और

पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है।

22.

02.

2022

I

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

जब पेड़ चलते थे अंडमान निकोबार की लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज लालबहादुर शास्त्री पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

लाल बहादुर शास्त्री से संबंधित पुस्तकें :

शास्त्री जी को इस कहानी से छुट्टी दो... - अरुण कान्त शुक्ला

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

II

 रंगमंच की सामग्री :

अध्यापक जी रंगमंच एवं साज-सज्जा की सामग्री जैसे - मुकुट, तलवार, बर्तन, दस्ताने, अंगूठी, छड़ी, आदि से भरा हुआ एक थैला तैयार करेंगे अथवा सामग्री का नाम देकर बच्चों को घर से लाने के लिए कहेंगे |

विद्यार्थी थैले में से किसी एक वस्तु का चयन करेंगे | अथवा वस्तुएं बच्चों द्वारा घर से लाने की स्थिति में अध्यापक जी बच्चों को कोई भी एक वस्तु प्रदान करेंगे |

अब प्रत्येक विद्यार्थी उसे प्रदान की गयी सामग्री को किसी की भलाई के लिए उपयोग करने के बारे में लिखेगा |

अब प्रत्येक समूह से एक विद्यार्थी अपनी लिखी गयी रचना को कक्षा के सम्मुख पढ़कर सुनाएगा |

III

 पढ़ें और अभिनय करें :

छात्रों को समूहों में काम करने के लिए सौंपा जाना है

उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है

इसके बाद, उन्हें एक के साथ सहयोग करने के लिए कहा जाता है

दूसरा और पूरी कहानी को अधिनियमित करें। इस

प्रदर्शन कला के साथ पठन का एकीकरण

शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और

पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है।

23.

02.

2022

I

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

चटोरी भानुमती: आंध्र प्रदेश की लोक कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज भगत सिंह पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

भगत सिंह से संबंधित पुस्तकें :

मैं बंदूकें बो रहा हूं – संकलित

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

II

 रंगमंच की सामग्री :

 अध्यापक जी रंगमंच एवं साज-सज्जा की सामग्री जैसे - मुकुटतलवारबर्तनदस्तानेअंगूठीछड़ीआदि से भरा हुआ एक थैला तैयार करेंगे अथवा सामग्री का नाम देकर बच्चों को घर से लाने के लिए कहेंगे |

 विद्यार्थी थैले में से किसी एक वस्तु का चयन करेंगे | अथवा वस्तुएं बच्चों द्वारा घर से लाने की स्थिति में अध्यापक जी बच्चों को कोई भी एक वस्तु प्रदान करेंगे |

 अब प्रत्येक विद्यार्थी उसे प्रदान की गयी सामग्री को किसी की भलाई के लिए उपयोग करने के बारे में लिखेगा |

 अब प्रत्येक समूह से एक विद्यार्थी अपनी लिखी गयी रचना को कक्षा के सम्मुख पढ़कर सुनाएगा |

III

 पढ़ें और अभिनय करें :

छात्रों को समूहों में काम करने के लिए सौंपा जाना है

 उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है

 इसके बादउन्हें एक के साथ सहयोग करने के लिए कहा जाता है

दूसरा और पूरी कहानी को अधिनियमित करें। इस

प्रदर्शन कला के साथ पठन का एकीकरण

शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और

पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है।

24.

02.

2022

I

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

चालीस भाइयों की पहाड़ी : कश्मीरी लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज चन्द्र शेखर आजाद पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

चन्द्र शेखर आजाद से संबंधित पुस्तकें :

दुश्मन की गोलियां – संकलित

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

II

 रंगमंच की सामग्री :

 अध्यापक जी रंगमंच एवं साज-सज्जा की सामग्री जैसे - मुकुटतलवारबर्तनदस्तानेअंगूठीछड़ीआदि से भरा हुआ एक थैला तैयार करेंगे अथवा सामग्री का नाम देकर बच्चों को घर से लाने के लिए कहेंगे |

 विद्यार्थी थैले में से किसी एक वस्तु का चयन करेंगे | अथवा वस्तुएं बच्चों द्वारा घर से लाने की स्थिति में अध्यापक जी बच्चों को कोई भी एक वस्तु प्रदान करेंगे |

 अब प्रत्येक विद्यार्थी उसे प्रदान की गयी सामग्री को किसी की भलाई के लिए उपयोग करने के बारे में लिखेगा |

 अब प्रत्येक समूह से एक विद्यार्थी अपनी लिखी गयी रचना को कक्षा के सम्मुख पढ़कर सुनाएगा |

III

 पढ़ें और अभिनय करें :

छात्रों को समूहों में काम करने के लिए सौंपा जाना है

 उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है

 इसके बादउन्हें एक के साथ सहयोग करने के लिए कहा जाता है

दूसरा और पूरी कहानी को अधिनियमित करें। इस

प्रदर्शन कला के साथ पठन का एकीकरण

शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और

पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है।

25.

02.

2022

I

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

निन्यानवे का चक्कर : असमिया लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज वीर सावरकर पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

वीर सावरकर से संबंधित पुस्तकें :

वीर सावरकर के जीवन के प्रसंग – संकलित

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

II

 रंगमंच की सामग्री :

 अध्यापक जी रंगमंच एवं साज-सज्जा की सामग्री जैसे - मुकुटतलवारबर्तनदस्तानेअंगूठीछड़ीआदि से भरा हुआ एक थैला तैयार करेंगे अथवा सामग्री का नाम देकर बच्चों को घर से लाने के लिए कहेंगे |

 विद्यार्थी थैले में से किसी एक वस्तु का चयन करेंगे | अथवा वस्तुएं बच्चों द्वारा घर से लाने की स्थिति में अध्यापक जी बच्चों को कोई भी एक वस्तु प्रदान करेंगे |

 अब प्रत्येक विद्यार्थी उसे प्रदान की गयी सामग्री को किसी की भलाई के लिए उपयोग करने के बारे में लिखेगा |

 अब प्रत्येक समूह से एक विद्यार्थी अपनी लिखी गयी रचना को कक्षा के सम्मुख पढ़कर सुनाएगा |

III

 पढ़ें और अभिनय करें :

छात्रों को समूहों में काम करने के लिए सौंपा जाना है

 उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है

 इसके बादउन्हें एक के साथ सहयोग करने के लिए कहा जाता है

दूसरा और पूरी कहानी को अधिनियमित करें। इस

प्रदर्शन कला के साथ पठन का एकीकरण

शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और

पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है।

26.

02.

2022

I

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना :

शिक्षक किसी भी भाषा (क्षेत्रीय/मातृभाषा सहित) में से किसी भी पुस्तक का चयन करेगा और फिर विद्यार्थियों से पुस्तक समीक्षा लिखने के लिए कहेगा ।

आज की पुस्तक :

ईचा पूचा: केरल/मलयालम की लोक-कथा  (कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए)

 

हमारे नेता हमारी प्रेरणा :

विद्यार्थियों को आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस पर एक पुस्तक या एक निबंध खोजने के लिए असाइन करें ।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस से संबंधित पुस्तकें :

नेताजी सुभाष चंद्र बोस  की जीवनी - संकलित

 

अनुवर्ती गतिविधि के रूप में, विद्यार्थियों से दयालुता का कार्य करने के लिए कहें और इसे नोट करें ।

अगले सप्ताह विद्यार्थियों को इसे साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें ।

II

 रंगमंच की सामग्री :

 अध्यापक जी रंगमंच एवं साज-सज्जा की सामग्री जैसे - मुकुटतलवारबर्तनदस्तानेअंगूठीछड़ीआदि से भरा हुआ एक थैला तैयार करेंगे अथवा सामग्री का नाम देकर बच्चों को घर से लाने के लिए कहेंगे |

 विद्यार्थी थैले में से किसी एक वस्तु का चयन करेंगे | अथवा वस्तुएं बच्चों द्वारा घर से लाने की स्थिति में अध्यापक जी बच्चों को कोई भी एक वस्तु प्रदान करेंगे |

 अब प्रत्येक विद्यार्थी उसे प्रदान की गयी सामग्री को किसी की भलाई के लिए उपयोग करने के बारे में लिखेगा |

 अब प्रत्येक समूह से एक विद्यार्थी अपनी लिखी गयी रचना को कक्षा के सम्मुख पढ़कर सुनाएगा |

III

  पढ़ें और अभिनय करें :

छात्रों को समूहों में काम करने के लिए सौंपा जाना है

 उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है

 इसके बादउन्हें एक के साथ सहयोग करने के लिए कहा जाता है

दूसरा और पूरी कहानी को अधिनियमित करें। इस

प्रदर्शन कला के साथ पठन का एकीकरण

शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और

पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है।



Reading Campaign : सातवें सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

14.

02.

2022

I

बताओ तो मैं कौन हूँ ?

आज के लेखक हैं मुंशी प्रेमचंद जी और आज की बाल-कहानी है – “पागल हाथी” | अध्यापक जी विद्यार्थियों को यह कहानी पढ़कर सुनायेंगे | कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए |

चरित्र मानचित्रण : विद्यार्थियों को कहानी के मुख्य पात्रों और उनकी विशेषताओं की पहचान करने और पूरी कक्षा को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है |

आज की गतिविधि :

1 मेरे चार पैर हैं, एक पूंछ, दो बड़े कान तथा एक सूंड है | बताओ मैं कौन हूँ ?

(हाथी)

2 मेरे हाथ में छोटी लकड़ी है | मैं हाथियों को सिखाता हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(महावत)

3 मैं एक हाथी हूँ | मैं राजा की सवारी में ख़ास था | बताओ मेरा नाम ?

(मोती)

4 मैं एक लड़का हूँ | मेरे पिताजी महावत थे | बताओ मैं कौन हूँ ?

(मुरली)

II

पुस्तक खोलो, फिर बोलो / पढ़ो और साझा करो  (Speak Up) :

प्रत्येक समूह को जोड़ियों में विभक्त किया जाए | एक विद्यार्थी लेखक एवं दूसरा विद्यार्थी उसके द्वारा रचित पात्र होगा |

अब दोनों विद्यार्थियों को इस लेखक-चरित्र की जोड़ी से संबंधित पुस्तक पढ़ने के लिए दी जाए |

अब जोडीदार एक दूसरे से पढ़ी गयी पुस्तक के बारे में 5-6 प्रश्न पूछेंगे |

आज के लेखक मुंशी प्रेमचंद एवं उनके काल्पनिक चरित्र :

हल्कू - पूस की रात

जोखू – ठाकुर का कुआं

हामिद – ईदगाह

सुजान महतो – सुजान भगत

पंडित जानकीनाथ – परीक्षा

III

पुस्तक अनुशंसा :

अध्यापक जी विद्यार्थियों को पुस्तकों की सूची उपलब्ध करवाएंगे | यह सूची विद्यालय के पुस्तकालय के रजिस्टर में से होनी चाहिए ताकि चुनी हुई पुस्तक विद्यार्थियों को तुरंत उपलब्ध हो सके |

अब प्रत्येक विद्यार्थी अपने एक मित्र के लिए इस सूची में से एक पुस्तक की अनुशंसा करेगा |

अब इस पुस्तक में से सबसे खलनायक चरित्र को चुनकर उसके चरित्र को सारांश में लिखा जाए |

15.

02.

2022

I

 बताओ तो मैं कौन हूँ ?

आज की बाल-कहानी है – “अनोखी तरकीब” (पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें ) | अध्यापक जी विद्यार्थियों को यह कहानी पढ़कर सुनायेंगे | कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए |

चरित्र मानचित्रण : विद्यार्थियों को कहानी के मुख्य पात्रों और उनकी विशेषताओं की पहचान करने और पूरी कक्षा को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है |

आज की गतिविधि :

1 मैं चीजें खरीदता हूँ और बेचता हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(व्यापारी)

2 मैं न्याय करता हूँ, आजकल मुझे जज या न्यायाधीश कहते हैं, पर पहले मेरा अलग नाम था | बताओ मैं कौन हूँ ?

(काजी )

3 मैं बहुत बुरा हूँ | मैं दूसरों की चीजें चुपके से ले लेता हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(चोर)

4 बूढों का सहारा हूँ, अंधों को राह दिखाती हूँ | ग्वाले का औजार हूँ, पुलिस के हाथों में इतराती हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(छड़ी)

II

 पुस्तक खोलो, फिर बोलो / पढ़ो और साझा करो  (Speak Up) :

प्रत्येक समूह को जोड़ियों में विभक्त किया जाए | एक विद्यार्थी लेखक एवं दूसरा विद्यार्थी उसके द्वारा रचित पात्र होगा |

अब दोनों विद्यार्थियों को इस लेखक-चरित्र की जोड़ी से संबंधित पुस्तक पढ़ने के लिए दी जाए |

अब जोडीदार एक दूसरे से पढ़ी गयी पुस्तक के बारे में 5-6 प्रश्न पूछेंगे |

आज के संकलित कहानी संग्रह एवं उनके काल्पनिक चरित्र :

विक्की – ईमानदारी (पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें )

गल्लू – सियार का लालच (पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें )

बूढ़ी नानी – चालाकी का फल (पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें )

वीनू – पत्थर ही पत्थर (पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें )

III

 पुस्तक अनुशंसा :

अध्यापक जी विद्यार्थियों को पुस्तकों की सूची उपलब्ध करवाएंगे | यह सूची विद्यालय के पुस्तकालय के रजिस्टर में से होनी चाहिए ताकि चुनी हुई पुस्तक विद्यार्थियों को तुरंत उपलब्ध हो सके |

अब प्रत्येक विद्यार्थी अपने एक मित्र के लिए इस सूची में से एक पुस्तक की अनुशंसा करेगा |

अब इस पुस्तक में से सबसे खलनायक चरित्र को चुनकर उसके चरित्र को सारांश में लिखा जाए |

16.

02.

2022

I

 बताओ तो मैं कौन हूँ ?

आज की बाल-कहानी है – “बेचारा गधा” | अध्यापक जी विद्यार्थियों को यह कहानी पढ़कर सुनायेंगे | कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए |

चरित्र मानचित्रण : विद्यार्थियों को कहानी के मुख्य पात्रों और उनकी विशेषताओं की पहचान करने और पूरी कक्षा को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है |

आज की गतिविधि :

1 मैं चीजें खरीदता हूँ और बेचता हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(व्यापारी)

2 मैं पीठ पर माल ढ़ोता हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(गधा)

3 मैं साइकिल लेकर चलता हूँ | नगर-गाँव-शहर तक डाक बांटता हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(डाकिया)

II

 पुस्तक खोलो, फिर बोलो / पढ़ो और साझा करो  (Speak Up) :

प्रत्येक समूह को जोड़ियों में विभक्त किया जाए | एक विद्यार्थी लेखक एवं दूसरा विद्यार्थी उसके द्वारा रचित पात्र होगा |

अब दोनों विद्यार्थियों को इस लेखक-चरित्र की जोड़ी से संबंधित पुस्तक पढ़ने के लिए दी जाए |

अब जोडीदार एक दूसरे से पढ़ी गयी पुस्तक के बारे में 5-6 प्रश्न पूछेंगे |

आज के संकलित कहानी संग्रह एवं उनके काल्पनिक चरित्र :

गोवर्धन दास – अंधेर नगरी (Click to Read)

रानी – चावल का एक दाना (Click to Read)

मेट – एक पत्थर पर मुकदमा (Click to Read)

नन्हा तोता – बहादुर नन्हा तोता (Click to Read)

III

 पुस्तक अनुशंसा :

अध्यापक जी विद्यार्थियों को पुस्तकों की सूची उपलब्ध करवाएंगे | यह सूची विद्यालय के पुस्तकालय के रजिस्टर में से होनी चाहिए ताकि चुनी हुई पुस्तक विद्यार्थियों को तुरंत उपलब्ध हो सके |

अब प्रत्येक विद्यार्थी अपने एक मित्र के लिए इस सूची में से एक पुस्तक की अनुशंसा करेगा |

अब इस पुस्तक में से सबसे खलनायक चरित्र को चुनकर उसके चरित्र को सारांश में लिखा जाए |

17.

02.

2022

I

 बताओ तो मैं कौन हूँ ?

आज की बाल-कहानी है – “एक अशिष्ट आदमी” | अध्यापक जी विद्यार्थियों को यह कहानी पढ़कर सुनायेंगे | कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए |

चरित्र मानचित्रण : विद्यार्थियों को कहानी के मुख्य पात्रों और उनकी विशेषताओं की पहचान करने और पूरी कक्षा को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है |

आज की गतिविधि :

1 मैं लोगों को को भला-बुरा कहता हूँ, सबको परेशान करता हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(अशिष्ट)

2 मैं एक छोटा लड़का हूँ | मेरे दिमाग में एक योजना है | बताओ मैं कौन हूँ ?

(चतुर लड़का)

II

 पुस्तक खोलो, फिर बोलो / पढ़ो और साझा करो  (Speak Up) :

प्रत्येक समूह को जोड़ियों में विभक्त किया जाए | एक विद्यार्थी लेखक एवं दूसरा विद्यार्थी उसके द्वारा रचित पात्र होगा |

अब दोनों विद्यार्थियों को इस लेखक-चरित्र की जोड़ी से संबंधित पुस्तक पढ़ने के लिए दी जाए |

अब जोडीदार एक दूसरे से पढ़ी गयी पुस्तक के बारे में 5-6 प्रश्न पूछेंगे |

आज के संकलित कहानी संग्रह एवं उनके काल्पनिक चरित्र :

लूसी – नीलू (Click to Read)

सूसी – भयंकर हंस (Click toRead)

जोर्ज – गधा (Clickto Read)

घड़ी – घड़ियों की चौपाल (Click to Read)

III

 पुस्तक अनुशंसा :

अध्यापक जी विद्यार्थियों को पुस्तकों की सूची उपलब्ध करवाएंगे | यह सूची विद्यालय के पुस्तकालय के रजिस्टर में से होनी चाहिए ताकि चुनी हुई पुस्तक विद्यार्थियों को तुरंत उपलब्ध हो सके |

अब प्रत्येक विद्यार्थी अपने एक मित्र के लिए इस सूची में से एक पुस्तक की अनुशंसा करेगा |

अब इस पुस्तक में से सबसे खलनायक चरित्र को चुनकर उसके चरित्र को सारांश में लिखा जाए |

18.

02.

2022

I

 बताओ तो मैं कौन हूँ ?

आज की बाल-कहानी है – “रूठा स्पिंकी” | अध्यापक जी विद्यार्थियों को यह कहानी पढ़कर सुनायेंगे | कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए |

चरित्र मानचित्रण : विद्यार्थियों को कहानी के मुख्य पात्रों और उनकी विशेषताओं की पहचान करने और पूरी कक्षा को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है |

आज की गतिविधि :

1 मैं बहुत परेशान हूँ | धड़धड़ाता चलता हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(स्पिंकी)

2 मैं स्पिंकी की भाई हूँ | बताओ मेरा नाम ?

(हिच)

3 हम स्मज और इग्गी हैं | बताओ हम कौन हैं ?

(स्पिंकी के दोस्त)

II

 पुस्तक खोलो, फिर बोलो / पढ़ो और साझा करो  (Speak Up) :

प्रत्येक समूह को जोड़ियों में विभक्त किया जाए | एक विद्यार्थी लेखक एवं दूसरा विद्यार्थी उसके द्वारा रचित पात्र होगा |

अब दोनों विद्यार्थियों को इस लेखक-चरित्र की जोड़ी से संबंधित पुस्तक पढ़ने के लिए दी जाए |

अब जोडीदार एक दूसरे से पढ़ी गयी पुस्तक के बारे में 5-6 प्रश्न पूछेंगे |

आज के संकलित कहानी संग्रह एवं उनके काल्पनिक चरित्र :

कजरी – कजरी गाय झूले पे (Click to Read)

हाथी – वफादार हाथी (Click to Read)

होमर – फुग्गे का वह एक दिन (Click to Read)

उल्ली – छुटकी उल्ली (Click to Read)

III

 पुस्तक अनुशंसा :

अध्यापक जी विद्यार्थियों को पुस्तकों की सूची उपलब्ध करवाएंगे | यह सूची विद्यालय के पुस्तकालय के रजिस्टर में से होनी चाहिए ताकि चुनी हुई पुस्तक विद्यार्थियों को तुरंत उपलब्ध हो सके |

अब प्रत्येक विद्यार्थी अपने एक मित्र के लिए इस सूची में से एक पुस्तक की अनुशंसा करेगा |

अब इस पुस्तक में से सबसे खलनायक चरित्र को चुनकर उसके चरित्र को सारांश में लिखा जाए |

19.

02.

2022

I

 बताओ तो मैं कौन हूँ ?

आज की बाल-कहानी है – “किसान की बेटी” | अध्यापक जी विद्यार्थियों को यह कहानी पढ़कर सुनायेंगे | कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए |

चरित्र मानचित्रण : विद्यार्थियों को कहानी के मुख्य पात्रों और उनकी विशेषताओं की पहचान करने और पूरी कक्षा को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है |

आज की गतिविधि :

1 मैं खेतों में हल चलाता हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(किसान )

2 मैं घास-फूस की बनी हुई, गरीबों का आशियाना हूँ | बताओ मैं कौन हूँ ?

(झोंपड़ी)

3 मैं पूरे राज्य का स्वामी हूँ | सब लोग मेरी प्रजा है | बताओ मैं कौन हूँ ?

(राजा)

II

 पुस्तक खोलो, फिर बोलो / पढ़ो और साझा करो  (Speak Up) :

प्रत्येक समूह को जोड़ियों में विभक्त किया जाए | एक विद्यार्थी लेखक एवं दूसरा विद्यार्थी उसके द्वारा रचित पात्र होगा |

अब दोनों विद्यार्थियों को इस लेखक-चरित्र की जोड़ी से संबंधित पुस्तक पढ़ने के लिए दी जाए |

अब जोडीदार एक दूसरे से पढ़ी गयी पुस्तक के बारे में 5-6 प्रश्न पूछेंगे |

आज के संकलित कहानी संग्रह एवं उनके काल्पनिक चरित्र :

रिंकी – खिलौनों का अस्पताल (Click to Read)

गोलू – गोलू और गुलाब (Click to Read)

लीषा – सबसे बड़ी चीज (Click to Read)

बंटी – ऐसे मना जन्मदिन (Click to Read)

III

 पुस्तक अनुशंसा :

अध्यापक जी विद्यार्थियों को पुस्तकों की सूची उपलब्ध करवाएंगे | यह सूची विद्यालय के पुस्तकालय के रजिस्टर में से होनी चाहिए ताकि चुनी हुई पुस्तक विद्यार्थियों को तुरंत उपलब्ध हो सके |

अब प्रत्येक विद्यार्थी अपने एक मित्र के लिए इस सूची में से एक पुस्तक की अनुशंसा करेगा |

अब इस पुस्तक में से सबसे खलनायक चरित्र को चुनकर उसके चरित्र को सारांश में लिखा जाए |


Reading Campaign : छठवें सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

07.

02.

2022

I

शीर्षक वृक्ष :

विद्यार्थियों को कहानी सुनाएँ और उस कहानी के शीर्षक का उन्हें निर्धारण करने दें | बच्चों को विभिन्न प्रकार के हिंट दें और उन्हें शीर्षक चुनने में सहायता प्रदान करें | इस प्रकार जो जो शीर्षक बनाते जाएँ उन्हें श्यामपट्ट पर वृक्ष-आरेख में प्रदर्शित करते जाएँ | इस प्रकार एक शीर्षक वृक्ष का निर्माण हो जाएगा |

II

साहित्यिक कैलेंडर :

विद्यार्थियों को अपनी अभ्यास-पुस्तिका में से बीच में से दो पृष्ठ फाड़ने को कहें | अब इन पृष्ठों को बीच में से खड़ा मोड़ने पर यह लघु-पुस्तिका (बुकलेट) जैसी लगाने लगेगी |

अब इसमें निम्नांकित तरीके से प्रारूप बनाने को कहें –

अब विद्यार्थियों को पुस्तकालय में से पुस्तकें वितरित करें तथा उन पुस्तकों की सहायता से यह प्रारूप भरने को कहें | यदि फोटो उपलब्ध न हों तो कोई बात नहीं |

III

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण :

आज हम राजस्थान के लोकप्रिय एवं सिग्नेचर लोकगीत “पधारो म्हारे देश...” पर परीक्षण करेंगे | अध्यापक जी इस लोकगीत की उत्पत्ति, गायन शैली, भावार्थ, गाये जाने का समय, घराना आदि के बारे में विद्यार्थियों को अवगत करवाएंगे | इस गीत का राजस्थान के परिदृश्य में एवं उनकी मेहमान-नवाजी के परिप्रेक्ष्य में विश्लेषण एवं परीक्षण करेंगे |

अब अध्यापक जी पुन: समूहवार इस परीक्षण को सुनेंगे | यहाँ निहित उद्देश्य है – विद्यार्थियों को स्थानीय लोक-संस्कृति से जोड़ना एवं उनके मानवीय मूल्यों को समाहित करने का अवसर प्रदान करना |

 

-*-*-*-*-*- अथवा -*-*-*-*-*-

 

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण :

आज हम शुरुआत में सबसे सरल को चुन सकते हैं जैसे – शिकंजी / नींबूपानी बनाना | यह विधि विद्यार्थियों की पुस्तकों में पहले से ही दी हुई है | चूंकि यह आमतौर पर हमारे घरों में बनता रहता है अत: इसको करके दिखाने की विशेष आवश्यकता नहीं है, फिर भी यथा-आवश्यकता एक बार संपूर्ण विधि बता दी जाए | अब सभी समूहों को पृथक्-पृथक् सामग्री उपलब्ध करवाई जाये ताकि वे नींबू-पानी बना सकें |

अब प्रत्येक समूह के द्वारा बनाए गए नींबू-पानी का परीक्षण किया जाये | जिनका नींबू-पानी सबसे अच्छा हो वह समूह “आज का समूह / Group of the Day” घोषित किया जाए |

08.

02.

2022

I

शीर्षक वृक्ष :

 विद्यार्थियों को आज पंचतंत्र की कोई कहानी सुनाएँ और उस कहानी के शीर्षक का उन्हें निर्धारण करने दें | आज की कहानी नकल न करने अथवा चोरी के दुष्परिणाम से जुड़ी हो | चोरी करने वाला अंतत: दुःख प्राप्त करता है | अब बच्चों को विभिन्न प्रकार के हिंट दें और उन्हें शीर्षक चुनने में सहायता प्रदान करें | इस प्रकार जो जो शीर्षक बनाते जाएँ उन्हें श्यामपट्ट पर वृक्ष-आरेख में प्रदर्शित करते जाएँ | इस प्रकार एक शीर्षक वृक्ष का निर्माण हो जाएगा |

II

साहित्यिक कैलेंडर :

 साहित्यिक कैलेंडर में आज भक्तिकाल के कवियों को समाहित करेंगे | जैसे – सूरदास, तुलसीदास, मीराबाई, नंददास, हरिदास, मलूक दास, मालिक मोहम्मद जायसी, दादू दयाल, धर्मदास आदि |

अब विद्यार्थियों को संबंधित पुस्तकें वितरित करें तथा उनकी वांछित जानकारी अपनी बुकलेट में निर्धारित प्रारूप में भरने को कहें |

उपरोक्त कार्य का उद्देश्य भारतीय साहित्य-संस्कृति से विद्यार्थियों को जोड़ना है |

III

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण :

आज हम गुजरात के लोकप्रिय एवं नवरात्रि में अधिकांशत: गाये जाने वाले लोकगीत “गरबा” के बारे में जानेंगे | अध्यापक जी इस लोकगीत की उत्पत्ति, गायन शैली, भावार्थ, गाये जाने का समय, घराना आदि के बारे में विद्यार्थियों को अवगत करवाएंगे | इस गीत का भक्ति के परिदृश्य में एवं नवरात्रि के परिप्रेक्ष्य में विश्लेषण एवं परीक्षण करेंगे |

अब अध्यापक जी पुन: समूहवार इस परीक्षण को सुनेंगे | यहाँ निहित उद्देश्य है – विद्यार्थियों को स्थानीय लोक-संस्कृति से जोड़ना एवं उनके मानवीय मूल्यों को समाहित करने का अवसर प्रदान करना |

-*-*-*-*-*- अथवा -*-*-*-*-*-

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण :

आज चनों की चाट बनायी जा सकती है | इसके लिए बच्चों को यह वीडियो भी दिखाया जा सकता है | आवश्यक सामग्री एकत्रित करें | एवं सभी समूहों को वितरित करें | प्रत्येक समूह को 42 मिनट का समय दें | विद्यालय की कुक कम हेल्पर को उनका सहयोग करने दें ताकि रसोईघर में किसी दुर्घटना से बचा जा सके | 

09.

02.

2022

I

शीर्षक वृक्ष :

 आज विद्यार्थियों को हम चिर-प्रचलित कहानी “कछुआ और खरगोश” सुनायेंगे | विद्यार्थियों को यह समझाने का प्रयास भी करेंगे कि सतत् एवं व्यापक रूप से लगातार कार्य करना क्यों आवश्यक है ?

कहानी सुनाते समय श्यामपट्ट पर संबंधित चित्र भी बनाए जा सकते हैं |

चूंकि यह कहानी बच्चे पूर्व में भी सुनते रहे हैं इसलिए एकाध बच्चों से इसे सुना जा सकता है ताकि विद्यार्थी इसे भली भांति समझ लें | चूंकि विद्यार्थियों को कहानी के अनेक शीर्षक बताने हैं, इसलिए यह आवश्यक है कि विद्यार्थी इसे भली भांति समझ लें |

अब बच्चों को विभिन्न प्रकार के हिंट दें और उन्हें शीर्षक चुनने में सहायता प्रदान करें | इस प्रकार जो जो शीर्षक बनाते जाएँ उन्हें श्यामपट्ट पर वृक्ष-आरेख में प्रदर्शित करते जाएँ | इस प्रकार एक शीर्षक वृक्ष का निर्माण हो जाएगा |

II

साहित्यिक कैलेंडर :

 आज हम छायावाद की ओर चलेंगे | इस युग के प्रमुख साहित्यकार जयशंकर प्रसाद, सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला', सुमित्रानंदन पंत, महादेवी वर्मा, डॉ. रामकुमार वर्मा, उपेन्द्रनाथ अश्क, केदारनाथ मिश्र आदि हैं |

अब विद्यार्थियों को संबंधित पुस्तकें वितरित करें तथा उनकी वांछित जानकारी अपनी बुकलेट में निर्धारित प्रारूप में भरने को कहें |

उपरोक्त कार्य का उद्देश्य भारतीय साहित्य-संस्कृति से विद्यार्थियों को जोड़ना है |

III

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण :

आज हम गिरिजा कुमार माथुर जी का लिखा प्रसिद्ध गीत “हम होंगे कामयाब” के बारे में जानेंगे | अध्यापक जी इस गीत की गायन शैली, भावार्थ आदि के बारे में विद्यार्थियों को अवगत करवाएंगे | इस गीत को NCERT की वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है |

अब अध्यापक जी पुन: समूहवार इस परीक्षण को सुनेंगे | यहाँ निहित उद्देश्य है – विद्यार्थियों को मानवीय मूल्यों को समाहित करने का अवसर प्रदान करना |

विद्यार्थी स्वेच्छा से भी गीत का चयन कर सकते हैं |

-*-*-*-*-*- अथवा -*-*-*-*-*-

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण :

आज भेलपुरी बनायी जा सकती है | इसके लिए बच्चों को यह वीडियो भी दिखाया जा सकता है | इसके लिए आवश्यक सामग्री एकत्रित करें | एवं सभी समूहों को वितरित करें | प्रत्येक समूह को 42 मिनट का समय दें | विद्यालय की कुक कम हेल्पर को उनका सहयोग करने दें ताकि रसोईघर में किसी दुर्घटना से बचा जा सके |

10.

02.

2022

I

शीर्षक वृक्ष :

 विद्यार्थियों को आज रुडयार्ड किपलिंग की “द जंगल बुक” से कहानी सुनाएँ और उस कहानी के शीर्षक का उन्हें निर्धारण करने दें | अब बच्चों को विभिन्न प्रकार के हिंट दें और उन्हें शीर्षक चुनने में सहायता प्रदान करें | इस प्रकार जो जो शीर्षक बनाते जाएँ उन्हें श्यामपट्ट पर वृक्ष-आरेख में प्रदर्शित करते जाएँ | इस प्रकार एक शीर्षक वृक्ष का निर्माण हो जाएगा |

II

साहित्यिक कैलेंडर :

 आज हम रीतिकाल की ओर चलेंगे |

इस युग के प्रमुख साहित्यकार गुरु गोविंद सिंह, चिंतामणि, मतिराम, कुलपति मिश्र, बिहारी, रसनिधि, घनानंद, दलपति राय, सूदन, पद्माकर भट्ट, भूषण,गिरिधर कविराय, खुमान, वृंद आदि हैं |

अब विद्यार्थियों को संबंधित पुस्तकें वितरित करें तथा उनकी वांछित जानकारी अपनी बुकलेट में निर्धारित प्रारूप में भरने को कहें |

उपरोक्त कार्य का उद्देश्य भारतीय साहित्य-संस्कृति से विद्यार्थियों को जोड़ना है |

III

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण :

आज भारत की सुप्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर जी द्वारा गाया गया गीत “ऐ मेरे वतन के लोगों” को शामिल किया जाना चाहिए | यह देशभक्ति गीत कवि प्रदीप ने लिखा था | | यहाँ निहित उद्देश्य है – विद्यार्थियों में देश के लिए प्राण न्योछावर करने वाले वीरों के प्रति कृतज्ञता भाव विकसित करना |

विद्यार्थी स्वेच्छा से भी गीत का चयन कर सकते हैं |

-*-*-*-*-*- अथवा -*-*-*-*-*-

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण :

आज चावल की खीर बनायी जा सकती है | इसके लिए बच्चों को यह वीडियो भी दिखाया जा सकता है | इसके लिए आवश्यक सामग्री एकत्रित करें | एवं सभी समूहों को वितरित करें | प्रत्येक समूह को 42 मिनट का समय दें | विद्यालय की कुक कम हेल्पर को उनका सहयोग करने दें ताकि रसोईघर में किसी दुर्घटना से बचा जा सके |

11.

02.

2022

I

शीर्षक वृक्ष :

 विद्यार्थियों को आज उनकी पाठ्यपुस्तक से कोई कहानी सुनाएँ और उस कहानी के शीर्षक का उन्हें निर्धारण करने दें | अब बच्चों को विभिन्न प्रकार के हिंट दें और उन्हें शीर्षक चुनने में सहायता प्रदान करें | इस प्रकार जो जो शीर्षक बनाते जाएँ उन्हें श्यामपट्ट पर वृक्ष-आरेख में प्रदर्शित करते जाएँ | इस प्रकार एक शीर्षक वृक्ष का निर्माण हो जाएगा |

II

साहित्यिक कैलेंडर :

 आज हम आदिकाल / रासोकाल / वीरगाथा काल की ओर चलेंगे |

इस युग के प्रमुख साहित्यकार दलपति विजय, जगनिक, शारंगधर, नल्हसिंह भट्ट, नरपति नाल्ह,चंदरबरदाई आदि हैं |

अब विद्यार्थियों को संबंधित पुस्तकें वितरित करें तथा उनकी वांछित जानकारी अपनी बुकलेट में निर्धारित प्रारूप में भरने को कहें |

उपरोक्त कार्य का उद्देश्य भारतीय साहित्य-संस्कृति से विद्यार्थियों को जोड़ना है |

III

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण :

आज विद्यार्थियों को स्वयं की पसंद का गीत चुनने दें | विद्यार्थियों से यह भी जानने का प्रयास करें कि उन्होंने यही गीत क्यों चुना ? यहाँ निहित उद्देश्य है – विद्यार्थियों में स्वयं की रूचि के अनुरूप चीजों का चयन करना एवं उनका औचित्य स्थापन करना |

-*-*-*-*-*- अथवा -*-*-*-*-*-

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण :

आज दलिया बनाया जा सकता है | इसके लिए बच्चों को यह वीडियो भी दिखाया जा सकता है | इसके लिए आवश्यक सामग्री एकत्रित करें | एवं सभी समूहों को वितरित करें | प्रत्येक समूह को 42 मिनट का समय दें | विद्यालय की कुक कम हेल्पर को उनका सहयोग करने दें ताकि रसोईघर में किसी दुर्घटना से बचा जा सके |

12.

02.

2022

I

शीर्षक वृक्ष :

विद्यार्थियों को उनकी पाठ्यपुस्तक से “खट्टे अंगूर कहानी सुनाएँ और उस कहानी के शीर्षक का उन्हें निर्धारण करने दें | बच्चों को विभिन्न प्रकार के हिंट दें और उन्हें शीर्षक चुनने में सहायता प्रदान करें | इस प्रकार जो जो शीर्षक बनाते जाएँ उन्हें श्यामपट्ट पर वृक्ष-आरेख में प्रदर्शित करते जाएँ | इस प्रकार एक शीर्षक वृक्ष का निर्माण हो जाएगा |

II

साहित्यिक कैलेंडर :

आज हम विद्यार्थियों को उनका पसंदीदा साहित्यकार चुनने के लिए कहेंगे | तथा बुकलेट के अंतिम पृष्ठ में उन्हें उनके पसंदीदा साहित्यकार के बारे में अपने विचार लिखने के लिए भी प्रोत्साहित करेंगे |

अब विद्यार्थियों को संबंधित पुस्तकें वितरित करें तथा उनकी वांछित जानकारी अपनी बुकलेट में निर्धारित प्रारूप में भरने को कहें |

उपरोक्त कार्य का उद्देश्य भारतीय साहित्य-संस्कृति से विद्यार्थियों को जोड़ना है |

III

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण :

आज विद्यार्थियों को स्वयं की पसंद का स्थानीय भाषा का गीत चुनने दें | विद्यार्थियों से यह भी जानने का प्रयास करें कि उन्होंने यही गीत क्यों चुना ? यहाँ निहित उद्देश्य है – विद्यार्थियों में स्वयं की रूचि के अनुरूप चीजों का चयन करना एवं उनका औचित्य स्थापन करना |

-*-*-*-*-*- अथवा -*-*-*-*-*-

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण :

आज हम मौसम के लिहाज से विभिन्न सलाद बनाना सीखेंगे | इसके लिए बच्चों को यह वीडियो भी दिखाया जा सकता है | इसके लिए आवश्यक सामग्री एकत्रित करें | एवं सभी समूहों को वितरित करें | प्रत्येक समूह को 42 मिनट का समय दें | विद्यालय की कुक कम हेल्पर को उनका सहयोग करने दें ताकि रसोईघर में किसी दुर्घटना से बचा जा सके |



Reading Campaign : पंचम सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

31.

01.

2022

I

कहानी को फिर से सुनाना :

आज अध्यापक जी विद्यार्थियों को चित्रों वाली किताब से एक कहानी सुनायेंगे |

फिर बच्चों से उस कहानी को फिर से सुनाने के लिए कहा जाए |

अध्यापक जी कहानी की प्रमुख 5 घटनाओं को श्यामपट्ट पर बेतरतीब (Randomly) लिखेंगे |

फिर विद्यार्थी उक्त कथनों को सही क्रम में जमाने का प्रयास करेंगे |

जिस समूह के विद्यार्थी यह कार्य सबसे पहले कर लेंगें, वही समूह “आज का समूह / Group of the Day” घोषित किया जाए |

II

लोक-साहित्य का आनंद :

 “एक भारत, श्रेष्ठ भारत” अभियान के तहत आज उत्तर भारत से संबंधित किसी राज्य का चयन कर उस राज्य की चिर-प्रचलित लोक-कथा को कक्षा के समक्ष रोचक तरीके से पढ़कर सुनाया जाए | तत्पश्चात कुछ विद्यार्थियों से इस कहानी को अभिनय रूप में प्रस्तुत करने के लिए अभिप्रेरित किया जाए | अध्यापक जी आवश्यकतानुसार विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करेंगे |

III

चरित्र परीक्षण ~ एक प्रेस वार्ता :

आज विद्यार्थियों को 1857 की क्रान्ति से संबंधित लघु-कथाएं पढ़ने को दी जा सकती है | प्रत्येक विद्यार्थी को तांत्या टोपे, रानी लक्ष्मीबाई जैसे चरित्रों में से किसी एक को चुनने को कहा जाए तथा उसके जीवन से जुड़ी घटनाएँ पढ़ने के लिए दी जाएँ |

प्रत्येक समूह में से वरिष्ठ विद्यार्थी का चयन करते हुए एक टीम बनाएं |

अब यह नवगठित समूह प्रत्येक विद्यार्थी से उनके चरित्र से संबंधित प्रश्न पूछेगा |

इस प्रश्नोत्तरी द्वारा अन्य सभी विद्यार्थी भी संबंधित चरित्र के गुणों से लाभान्वित हो सकेंगे |

01.

02.

2022

I

कहानी को फिर से सुनाना :

 हमारी आज की कहानी लालची कुत्ता / अंगूर खट्टे हैं इत्यादि प्रकार की होगी | इन सचित्र कहानियों का उद्देश्य बालकों को लालच से दूर रहने का सन्देश देना भी है |

कहानी सुनाने के बाद विद्यार्थियों को चित्र-कथा की वर्कशीट भी दी जा सकती है, जिसमें कहानी के चित्र बेतरतीब (Randomly) ढंग से जमे होंगें |

विद्यार्थियों को कहानी के सही क्रम के अनुसार दिए गए चित्रों पर 1, 2, 3, 4, 5 आदि अंकित करना है |

विद्यार्थियों से इस कहानी को मौखिक रूप से भी सुनें |

II

लोक-साहित्य का आनंद :

 आज हम पूर्वी भारत के राज्य बिहार की और चलेंगे | बच्चों के प्यारे चंदा-मामा से संबंधित इस लोक-बाल-गीत को बच्चों के साथ गाएं |

चंदा मामा आरेआवऽ,

पारेआवऽ,

नदीया के किनारे आवऽ

सोने की कटोरियामें

दूध भात लेले आवऽ

बबुआ के मुंहवा में घूट देव

अब बच्चों को इस गीत को सामूहिक रूप से गाने को कहें और बाद में बच्चों से पृथक्-पृथक् भी सुनें |

III

चरित्र परीक्षण ~ एक प्रेस वार्ता :

आज विद्यार्थियों को समाज-सुधारकों से संबंधित जीवन-वृत्तांत / संस्मरण / जीवन की कोई प्रेरणादायी घटना पढ़ने के लिए दें |

राजा राम मोहन राय, स्वामी दयानंद सरस्वती, विवेकानंद जी, विनोबा भावे  आदि समाज-सुधारकों से संबंधित कहानियां पढ़ने के लिए बच्चों को पुस्तकें वितरित करें |

प्रत्येक समूह में से वरिष्ठ विद्यार्थी का चयन करते हुए एक टीम बनाएं |

अब यह नवगठित समूह प्रत्येक विद्यार्थी से उनके चरित्र से संबंधित प्रश्न पूछेगा |

इस प्रश्नोत्तरी द्वारा अन्य सभी विद्यार्थी भी संबंधित चरित्र के गुणों से लाभान्वित हो सकेंगे |

02.

02.

2022

I

कविता को फिर से सुनाना :

हमारी आज का विषय “बादल” कविता है| इस बाल-कविता का उद्देश्य बालकों को प्रकृति के समीप लाना और जल-संरक्षण का महत्त्व समझाना भी है |

जल ला बादल भैया,

जल ला भरो तलैया,

जल ला प्यासी गैया,

जल ला भरो तलैया,

गाएं हा-हा हैया...

अध्यापक जी इस बाल-कविता की सभी पंक्तियों को श्यामपट्ट पर बेतरतीब (Randomly) लिखेंगे |

फिर विद्यार्थी उक्त पंक्तियों को सही क्रम में जमाने का प्रयास करेंगे |

जिस समूह के विद्यार्थी यह कार्य सबसे पहले कर लेंगें, वही समूह “आज का समूह / Group of the Day” घोषित किया जाए |

II

लोक-साहित्य का आनंद :

 आज हम पूर्वोत्तर भारत के राज्य असम की और चलेंगे | रेलगाड़ी से संबंधित इस लोक-बाल-गीत को बच्चों के साथ गाएं |

(1)

झकझक झकझक झकझक

रेलगाडी चल्छन

नानीहरू रेलमा चढी

सारै खुशी हुन्छन॥

(2)

जतिजति रेलगाडी

अघिल्तिर जान्छ -

घुम्दै घुम्दै रुखपात सबै

पछि सर्दै जान्छ॥

अब बच्चों को इस गीत को सामूहिक रूप से गाने को कहें और बाद में बच्चों से पृथक्-पृथक् भी सुनें |

III

चरित्र परीक्षण ~ एक प्रेस वार्ता :

 आज विद्यार्थियों को वैज्ञानिकों / गणितज्ञों से संबंधित जीवन-वृत्तांत / संस्मरण / जीवन की कोई प्रेरणादायी घटना पढ़ने के लिए दें |

रामानुजम, चरक, सुश्रुत, कलाम, गार्गी, मैत्रेयी, डॉ. भाभा आदि वैज्ञानिकों / गणितज्ञों / विद्वजनों से संबंधित कहानियां पढ़ने के लिए बच्चों को पुस्तकें वितरित करें |

प्रत्येक समूह में से वरिष्ठ विद्यार्थी का चयन करते हुए एक टीम बनाएं |

अब यह नवगठित समूह प्रत्येक विद्यार्थी से उनके चरित्र से संबंधित प्रश्न पूछेगा |

इस प्रश्नोत्तरी द्वारा अन्य सभी विद्यार्थी भी संबंधित चरित्र के गुणों से लाभान्वित हो सकेंगे |

03.

02.

2022

I

कहानी को फिर से सुनाना :

 कहानियों के संसार में आज की कहानी है “प्यासा कौआ” |

कहानी सुनाने से पूर्व विद्यार्थियों को स्थिति प्रदान करें | एक जग में आधे से ज्यादा पानी लें | बालकों से कहें कि जग को हाथ नहीं लगाना है | न ही किसी अन्य बर्तन की सहायता लेनी है | तो बताओ कि यदि आपको प्यास लग रही है तो आप किस प्रकार से जग से पानी पियेंगे ? विद्यार्थियों को मुक्त रूप से सोचने दें और उनके जवाबों का आनंद लें |

अब विद्यार्थियों को प्यासे कौवे की कहानी सुनाएँ और साथ में चित्र दिखाते चलें |

अब विद्यार्थियों से कहानी के क्रम को जमाते हुए पुन: सुनाने को कहें |

II

लोक-साहित्य का आनंद :

 आज लोक साहित्य के अंतर्गत हम ‘अविनाश सिंह तोमर’ जी के द्वारा वर्णित एक पुराने ज़माने के विद्यार्थी द्वारा गृहकार्य न किये जाने पर अपनी ही टूटी-फूटी भाषा में अपनी मनोदशा को वर्णित करते सोपान के बारे में चर्चा करेंगे | विद्यार्थी ने इसे अग्निपथ की संज्ञा दी है :

ये महान दृश्य है, रो रहा मनुष्य है

डर के आंसुओं से लथपथ-लथपथ

अग्निपथ, अग्निपथ, अग्निपथ |

होमवर्क एक्को किया नहीं

टेस्ट में पास हुआ नहीं,

गाल पे पड़ेंगें चांटे

अनगिनत- अनगिनत

अग्निपथ, अग्निपथ, अग्निपथ |

आज अध्यापक जी विद्यार्थियों के मन से विद्यालय और पिटाई का डर दूर करने का प्रयास करेंगें |

“रीडिंग कैंपेन” का मूल-मन्त्र ही यही है कि विद्यार्थियों को यह कतई नहीं लगे कि विद्यालय के द्वार के अन्दर किसी किस्म की कैद है | 100 दिवस पूर्ण होने के बाद विद्यार्थियों को विद्यालय पहुँचने में स्वत: ही आनंद महसूस होने लग जाएगा |

III

चरित्र परीक्षण ~ एक प्रेस वार्ता :

आज प्रसिद्ध एकांकी जैसे – पन्ना धाय अथवा इसी प्रकार के देशभक्ति से सराबोर कथानक का चयन किया जाना अपेक्षित रहेगा | विद्यार्थियों को पात्र के रूप में चयन करें और उन्हें इस कथानक का आनंद लेने दें | विद्यार्थियों से उनके पात्र के चरित्र के बारे में प्रेस वार्ता करते समय –

ऐसा क्यों किया होगा ?

आप होते तो क्या करते ?

यदि ऐसा होता तो क्या होता ? इत्यादि प्रकार के प्रश्न अवश्य ही सम्मिलित करें ताकि विद्यार्थियों की कल्पनाशीलता और चिंतन कौशल का विकास हो सके |

04.

02.

2022

I

कहानी को फिर से सुनाना :

 अब तक विद्यार्थियों को अनुमान लगने लगा होगा कि कहानी को फिर से सुनाने में कहानी उतनी ही बड़ी नहीं रह जाती है जितनी कि वह पहले थी | अध्यापक जी बालकों को कहानी में से केवल मुख्य विषय-वस्तु को छांटना पिछले 4 दिवस से सिखा रहे हैं | आज बच्चों को पंचतंत्र से जुड़ी कोई कहानी सुनायी जा सकती है | पंचतंत्र की कहानियों के पात्र जंगल के जानवर होते हैं अत: ये कहानियां बच्चों को विशेषत: पसंद होती हैं |

व्याध और सियार, कबूतर और शिकारी आदि कई कहनियाँ पंचतंत्र में उपलब्ध हैं जो कि विद्यार्थियों को एक शिक्षा भी प्रदान करती हैं | अध्यापक जी कहानी की प्रमुख 5 घटनाओं को श्यामपट्ट पर बेतरतीब (Randomly) लिखेंगे |

फिर विद्यार्थी उक्त कथनों को सही क्रम में जमाने का प्रयास करेंगे |

जिस समूह के विद्यार्थी यह कार्य सबसे पहले कर लेंगें, वही समूह “आज का समूह / Group of the Day” घोषित किया जाए | 

II

लोक-साहित्य का आनंद :

 आज लोक-साहित्य खंड में रूख करते हैं दक्षिण भारत की ओर | आज की हमारी लोक-कथा राजा कृष्णदेवराय की राजधानी विजयनगर और उनके प्रमुख राजदरबारी और बच्चों के प्रिय तेनालीराम के बारे में होंगी | बच्चे घर पर भी दूरदर्शन के माध्यम से तेनालीराम के रोचक कार्यक्रम देखते रहते हैं |

इन कथाओं के मुख्य पात्रों जैसे – तेनालीराम, राजा कृष्णदेवराय, राजपुरोहित एवं अन्य की मुख्य भूमिकाएं समूहवार विद्यार्थियों को प्रदान की जाएँ तथा उनको उसी भूमिका में कहानी पढ़ने के लिए कहा जाए...

III

चरित्र परीक्षण ~ एक प्रेस वार्ता :

 आज इस गतिविधि में हम दक्षिण भारत के प्रमुख शासक छत्रपति शिवाजी महाराज के बारे में विद्यार्थियों को पाठ्य-सामग्री प्रदान करें | ताकि विद्यार्थी न सिर्फ अपने गौरवशाली अतीत से साक्षात्कार करें अपितु उनमें देश-भक्ति के मूल्यों का विकास भी हो सकें | विद्यार्थियों को पात्र के रूप में चयन करें और उन्हें इस कथानक का आनंद लेने दें | विद्यार्थियों से उनके पात्र के चरित्र के बारे में प्रेस वार्ता करते समय –

शिवाजी ने गुरूजी की आज्ञा क्यों मानी ?

शिवाजी की जगह आप होते तो क्या करते ?

यदि ऐसा होता तो क्या होता ? इत्यादि प्रकार के प्रश्न अवश्य ही सम्मिलित करें ताकि विद्यार्थियों की कल्पनाशीलता और चिंतन कौशल का विकास हो सके |

05.

02.

2022

I

कहानी को फिर से सुनाना :

 आज बच्चों को स्थानीय लोक-कहानी सुनाएँ,  जैसे – “कह रे चकवा बात” | अध्यापक जी को ध्यान रखना होगा कि यह कहानी प्रासंगिक ही होनी चाहिए | बच्चों को अपनी स्थानीय भाषा में कहानियां सुनना बहुत पसंद होता है |

कहानी सुनाने के बाद अध्यापक जी कहानी की प्रमुख 5 घटनाओं को श्यामपट्ट पर बेतरतीब (Randomly) लिखेंगे |

फिर विद्यार्थी उक्त कथनों को सही क्रम में जमाने का प्रयास करेंगे |

जिस समूह के विद्यार्थी यह कार्य सबसे पहले कर लेंगें, वही समूह “आज का समूह / Group of the Day” घोषित किया जाए |

II

लोक-साहित्य का आनंद :

 आज हम लोक-साहित्य शृंखला में पश्चिमी भारत के गुजरात-राजस्थान की और चलेंगे | यहाँ का लोक-साहित्य अद्भुत् रस लिए हुए है |

“अरे शंकर्या रे अरे शंकर्या रे धमक चाल मत चाल मालवो दूरो रे

भाई भाई रे मालवो दूरो रेभाई भाई शंकर्या रे

देख शंकर्या रे देख शंकर्याबांगा में कोयल बोले रे

वनड़ा में मोयोर् बोले रेटूका में गायला बोले रे भाई भाई शंकर्या रे...”

aapanorajasthan.org से साभार

आज बालकों को समूह गायन का आनंद लेने दें...

III

चरित्र परीक्षण ~ एक प्रेस वार्ता :

 आज बसंत पंचमी होने के कारण प्रसिद्ध लेखकों एवं कवियों जैसे सूरदास, तुलसीदास, कालीदास, रैदास, मीराबाई, दिनकर, सुमित्रा नंदन पंत, निराला. महादेवी वर्मा, सुभद्रा कुमारी चौहान, रांगेय राघव, अमृत लाल नागर आदि विद्वानों में से एक के बारे में एक समूह को उनकी जीवनी / कवि या लेखक परिचय पढ़ने के लिए दिया जाए | विद्यार्थी जान सकें कि उन विद्वानों ने अपने जीवन में कितना संघर्ष किया था | विद्यार्थी जान सकें कि उनकी कृतियों द्वारा जन-मानस में किस प्रकार से चेतना का संचार हुआ |

अब प्रत्येक समूह में से वरिष्ठ विद्यार्थी का चयन करते हुए एक टीम बनाएं |

अब यह नवगठित समूह प्रत्येक विद्यार्थी से उनके चरित्र से संबंधित प्रश्न पूछेगा |

इस प्रश्नोत्तरी द्वारा अन्य सभी विद्यार्थी भी संबंधित चरित्र के गुणों से लाभान्वित हो सकेंगे |


Reading Campaign : चतुर्थ सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक

समूह

गतिविधि

24.

01.

2022

I

साझा पठन :

अध्यापक विद्यार्थियों को चित्र दिखायेगा | विद्यार्थी चित्र पठन करेंगे | जैसे अध्यापक कमल, घर और चलने की क्रिया का चित्र दिखाएगा तथा विद्यार्थी उसे बोलेंगे è

1.        कमल घर चल |

2.        सूरज पानी ला |

3.        गाय घास खाती है |

4.        मछली का घर तालाब है |

5.        तोता मिर्च खाता है |

 

पुस्तकालय गतिविधि :

अध्यापक विद्यार्थियों को पुस्तकालय में लेकर जायेगा तथा विद्यार्थियों से निम्नानुसार गतिविधि करवाएगा è

किसी वस्तु का नाम पुकारेगा तथा विद्यार्थी उस वस्तु के चित्र को पुस्तकों में ढूंढेंगे | जो भी पहले ढूंढेगा, वही विजेता होगा |

1.        गिलास

2.        टेबल

3.        कुर्सी

4.        दरवाजा

5.        झंडा

 

II

दृश्य निर्माण :

अध्यापक विद्यार्थियों को चार अथवा 5 समूहों में विभाजित करेगा तथा किले के आकार में बिठाएगा |

समूह 1 = परकोटा

समूह 2 = सेना

समूह 3 = राजा एवं मंत्री

समूह 4 = प्रजाजन

समूह 5 = स्थानीय आवश्यकतानुसार |

प्रत्येक समूह को एक कहानी पढ़कर सुनानी है जो किले एवं राजाओं आदि से संबंधित हों |

पुस्तकालय गतिविधि :

प्रत्येक विद्यार्थी पिछले सप्ताह में पढी गयी पुस्तक के बारे में दो अथवा तीन पंक्तियाँ सुनाएगा |

III

मित्र संग आनंद पठन :

प्रत्येक विद्यार्थी अपने साथी का चयन करेगा | अब दोनों विद्यार्थी मिलकर कोई कहानी सुनायेंगे | यह प्रक्रिया सभी विद्यार्थियों के साथ दोहराई जायेगी |

 

पुस्तकालय गतिविधि :

प्रत्येक विद्यार्थी पहले सप्ताह के दौरान प्रदान की गयी पुस्तक से संबंधित कहानी की चार-पांच पंक्तियाँ सुनाएगा |

सभी विद्यार्थियों को पढ़ने के लिए उनकी आयु के अनुसार पुस्तक प्रदान की जानी है |

25.

01.

2022

I

 साझा पठन :

आज अध्यापक जी चित्रों वाली पुस्तक पढ़कर सुनायेंगे | पुस्तक पढ़ते समय बच्चों को चित्रों की ओर इंगित करते हुए चित्रों के बारे में और भी रोचक तथ्य बता सकते हैं | इससे विद्यार्थी प्रभावी तरीके से पढ़ने की गतिविधि देखकर सीख पायेंगे |

अब अध्यापक जी बच्चों को कहानी में आये चित्रों को दिखाकर उनके नाम पूछेंगे |

पुस्तकालय गतिविधि :

अब विद्यार्थियों से पूर्व में पढ़कर सुनायी गयी कहानी पर चर्चा की जा सकती है | विद्यार्थी अपनी भाषा में अपने तरीके से इसे बताएँगे |

II

 दृश्य निर्माण :

आज विद्यार्थियों को ड्रैगन के आकार की बैठक-संरचना में बिठाया जा सकता है | आज की कहानी भी ड्रैगन अथवा ऐसे ही किसी प्राणी जैसे – डायनासोर आदि के बारे में होनी चाहिए |

पुस्तकालय गतिविधि :

आज दूसरे समूह के विद्यार्थी अपनी पढी हुई कहानियों में से चार-पांच पंक्तियाँ सुनायेंगे |

III

 मित्र संग आनंद पठन :

विद्यार्थियों के समूह बनाए जाएंगे | प्रत्येक विद्यार्थी को कहानी का एक पात्र बनाया जाएगा | विद्यार्थी अपने पात्र के चरित्र के अनुसार भावानात्मक लहजे में उस पात्र का संवाद अथवा कथन पढ़कर सुनाएगा |

नोट : कहानी के पात्रों की संख्या के अनुसार समूह के विद्यार्थियों की संख्या घटाई अथवा बढाई जा सकती है |

पुस्तकालय गतिविधि :

आज दूसरे समूह के विद्यार्थी पहले सप्ताह के दौरान प्रदान की गयी पुस्तक से संबंधित कहानी की चार-पांच पंक्तियाँ सुनाएगा |

सभी विद्यार्थियों को पढ़ने के लिए उनकी आयु के अनुसार पुस्तक प्रदान की जानी है |

26.

01.

2022

I

 

II

 

III

 

27.

01.

2022

I

 साझा पठन :

आज अध्यापक जी चित्रों वाली पुस्तक से एक समूह को केवल एक ही पंक्ति पढ़कर सुनायेंगे | तथा प्रत्येक समूह को उनकी पंक्ति याद रखने के लिए कहेंगे |

बाद में प्रत्येक समूह से उनकी पंक्ति पूछी जायेगी | यदि किसी समूह के विद्यार्थियों को याद नहीं रह पाती है तो अध्यापक जी उस पंक्ति से संबंधित चित्र दिखाएँगे तथा पुनर्स्मरण करवाने के लिए सार्थक प्रयास करेंगे | यदि फिर भी उक्त समूह उस पंक्ति को नहीं बोल पाता है तो यह अवसर अन्य समूह को दे दिया जायेगा | और सही जवाब देने वाला समूह “ग्रुप ऑफ़ द डे” बन जाएगा |

 

पुस्तकालय गतिविधि :

अब विद्यार्थियों को वही पुस्तक देकर आज की कहानी को पढ़ने का अवसर दिया जाएगा | तथा बाद में उनसे मौखिक रूप से कहानी बोलने के लिए कहा जा सकता है |

II

 दृश्य निर्माण :

आज विद्यार्थियों को रेगिस्तान का दृश्य सजाना है | विद्यार्थियों को रेगिस्तान के वृक्षों की तरह थोड़ा दूर-दूर बिठाया जा सकता है | रेगिस्तानी जिलों से संबंधित लोककथाओं जैसे – ढोला-मारू, करणीमाता, मीराबाई आदि के बारे में कहानियां सुनायी जा सकती है | यदि किसी विद्यार्थी को इनसे संबंधित कोई लोकगीत अथवा भजन आता हो तो उन्हें गायन के लिए भी प्रेरित किया जा सकता है |

 

पुस्तकालय गतिविधि :

आज विद्यार्थी सुनी हुई राजस्थानी / गुजराती कहानियों में से चार-पांच पंक्तियाँ सुनायेंगे | यदि विद्यार्थियों को इस संबंध में कुछ याद न हो तो उन्हें इस प्रकार की पुस्तकें पढ़ने के लिए दी जा सकती है |

नोट : CBT & NBT (Child Book Trust & National Book Trust) की पुस्तकों में इस प्रकार की कई कहानियां हैं तथा ये पुसतकें सभी विद्यालयों में उपलब्ध हैं |

III

 मित्र संग आनंद पठन :

प्रत्येक समूह से एक ऐसी कहानी सुनाने के लिए कहा जाए जो उनको अब तक पढ़ी गयी कथा-कहानियों में सबसे ज्यादा आनंददायी लगी हो | यह कोई हास्य कथा अथवा प्रहसन भी हो सकता है | जरुरत होने पर उसी समूह का बड़ा विद्यार्थी अथवा गुरूजी उक्त कहानी को अन्य विद्यार्थियों के समझने के लिए भावार्थ अथवा सरलार्थ प्रस्तुत कर सकते हैं |

 

पुस्तकालय गतिविधि :

आज तीसरे समूह के विद्यार्थी पहले सप्ताह के दौरान प्रदान की गयी पुस्तक से संबंधित कहानी की चार-पांच पंक्तियाँ सुनाएगा |

सभी विद्यार्थियों को पढ़ने के लिए उनकी आयु के अनुसार पुस्तक प्रदान की जानी है |

28.

01.

2022

I

 साझा पठन :

आज अध्यापक जी चित्रों वाली पुस्तक से प्रत्येक विद्यार्थी को क्रमश: एक शब्द शब्द सहित (चित्र का नाम) बताते हुए चलेंगे | यदि पंक्ति में विद्यार्थियों की संख्या से ज्यादा शब्द हैं तो इस प्रकार से व्यवस्था करें कि अंतिम विद्यार्थी तक जाते-जाते पंक्ति पूर्ण हो जाए | मान लीजिए कि पंक्ति में 7 शब्द हैं और हमारे विद्यार्थी 5 हैं तो प्रथम दो विद्यार्थियों को शुरुआती दो-दो शब्द दिए जाएँ |

जैसे – खरगोश ने दुकानदार से कहा – आप बहुत ही दयालु व्यक्ति हैं |

अब विद्यार्थियों से यह पंक्ति सुनी जाए | अब यही प्रक्रिया अन्य समूह के साथ दोहराई जाए जब तक कि चित्र-कथा पूर्ण नहीं हो जाए |


पुस्तकालय गतिविधि :

आज विद्यार्थियों को दैनिक जीवन से जुडी वस्तुओं के चित्र दिखाकर उनके पहले एवं आखरी शब्द पूछे जा सकते हैं | जैसे साइकिल का चित्र दिखाने पर विद्यार्थी केवल सा और ही बोलें |

नोट : यदि वस्तु का नाम केवल दो अक्षरों का ही है तो केवल पहला अक्षर ही पूछें |

II

 दृश्य निर्माण :

आज विद्यार्थियों को किसी खेल के मैदान में बिठाया जाए तथा उनसे प्रथमत: उनके पसंदीदा खेल के बारे में पूछा जाए | अब जिस मैदान में वे बैठे हैं उस खेल से संबंधित जानकारी एवं संक्षिप्त इतिहास तथा इस खेल में भारतीय खिलाड़ियों की उपलब्धियों के बारे में बताया जा सकता है |

अब भारतीय स्वर्ण विजेता खिलाड़ी देवेन्द्र झाझड़िया के बारे में भी बताया जा सकता है क्योंकि समावेशी शिक्षा में यह बहुत ही प्रभावी कदम होगा |

 

पुस्तकालय गतिविधि :

अब समूह को खेल से संबंधित पुस्तक, चित्र-कथा आदि पढ़ने को दी जाए | बाद में उस खेल से संबंधित अपने विचार प्रस्तुत करने के लिए भी विद्यार्थियों को अवसर दिया जाए |

नोट : केंद्र प्रवर्तित विभिन्न योजनाओं के तहत प्रत्येक विद्यालय में “आओ खेलें खेल”, “आओ बनाना सीखें” प्रकार की कुछ पुस्तकें पहले से ही उपलब्ध हैं |

III

 मित्र संग आनंद पठन :

प्रत्येक समूह से एक विद्यार्थी को कहानी सुनाने का अवसर प्रदान किया जाए | किन्तु कहानी सुनाने वाला विद्यार्थी प्रथमत: संकेतों का प्रयोग करके अपनी कहानी का शीर्षक बताने का प्रयास करेगा | समूह का जो विद्यार्थी अपनी कहानी का शीर्षक इशारों से समझाने में सफल रहेगा केवल वही विद्यार्थी कहानी सुनाने का पात्र समझा जाएगा | यदि किसी समूह का कोई भी विद्यार्थी ऐसा करने में सफल नहीं होता है तो यह अवसर स्वत: ही अन्य समूह के पास चला जाएगा |

 

पुस्तकालय गतिविधि :

आज चौथे समूह के विद्यार्थी पहले सप्ताह के दौरान प्रदान की गयी पुस्तक से संबंधित कहानी की चार-पांच पंक्तियाँ सुनाएगा |

सभी विद्यार्थियों को पढ़ने के लिए उनकी आयु के अनुसार पुस्तक प्रदान की जानी है |

29.

01.

2022

I

 साझा पठन :

आज विद्यार्थियों को कुछ कार्ड वितरित किये जाएँ | आधे कार्ड्स में चित्र होंगें और आधे कार्ड्स में उन चित्रों के नाम | चित्र वाले कार्ड्स जमीन पर एक गोला खींचकर बीचों-बीच रख दिए जाएं | नाम वाले कार्ड्स विद्यार्थियों को वितरित किये जाएँ तथा एक-एक विद्यार्थी से उनके कार्ड का चित्र ढूंढकर उसके साथ कार्ड रखने को कहा जाए |

नोट : कार्ड्स की कुल संख्या किसी भी समूह के कुल विद्यार्थियों से +3 (तीन अधिक) होनी चाहिए | अन्यथा अंतिम विद्यार्थी का अवसर आने पर गोले में केवल एक कार्ड ही शेष रह जाएगा |

 

पुस्तकालय गतिविधि :

विद्यार्थियों को चौदहवें सप्ताह के लिए पुस्तकें वितरित करें | पुस्तकें विद्यार्थियों के स्तर के अनुसार ही चित्रात्मक होनी चाहिए |

II

 दृश्य निर्माण :

आज विद्यार्थियों को पेड़ के आकार में बिठाया जाए | प्रत्येक विद्यार्थी से किसी एक पेड़ का नाम पूछा जाए तथा उस पेड़ की कोई एक या दो विशेषताएं बताने के लिए कहा जाए | अध्यापक जी अपनी तरफ से भी पर्यावरण संरक्षण के प्रति अपने उद्गार प्रस्तुत कर सकते हैं | प्रत्येक समूह से किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में पूछें जो कि पौधारोपण करता हो / अपने घर-आँगन में पौधे या फुलवारी लगा राखी हो अथवा लोगों को पेड़ काटने से रोकता हो | यदि विद्यार्थी ऐसे किसी व्यक्ति का नाम बताएं तो उनसे मुक्त उत्तर वाला प्रश्न पूछें कि वह व्यक्ति ऐसा क्यों करता होगा ? अथवा हमें पेड़ क्यों नहीं काटने चाहिए ?

अब अध्यापक जी खेजडली आन्दोलन / चिपको आन्दोलन / पर्यावरण संरक्षण आंदोलन के बारे में कहानी सुनायेंगे |

 

पुस्तकालय गतिविधि :

विद्यार्थियों से खेजडली आन्दोलन / चिपको आन्दोलन / पर्यावरण संरक्षण आंदोलन के बारे में सुनायी गयी कहानी से संबंधित कुछ पंक्तियाँ बोलने के लिए कहा जाएगा |

अब विद्यार्थियों को चौदहवें सप्ताह के लिए पुस्तकें वितरित करें | प्रयास करें कि उक्त पुस्तकें किसी व्यवसाय पर आधारित हों जैसे – चिकित्सक, वैज्ञानिक, व्यापार, सैनिक, नाविक आदि | उदाहरणत: डॉक्टर राधाकृष्णन, डॉ कलाम, आदि से संबंधित पुस्तकें |

III

मित्र संग आनंद पठन :

आज समूह के केवल वरिष्ठ विद्यार्थी ही कहानी सुनाने का कार्य करेंगे | कहानी की रोचकता में अभिवृद्धि करने के लिए शब्दों में प्रसंगानुसार उतार-चढ़ाव होना आवश्यक है | कहानी एकल, युगल अथवा सामूहिक रूप से भी कही जा सकती है | यदि कहानी लंबी हो तो कहानी वाचकों की संख्या के अनुसार इसे खण्डों में भी विभाजित किया जा सकता है | अलग-अलग विद्यार्थियों द्वारा खंडश: कहानी कहे जाने के कारण कहानी का रोमांच और भी अधिक बढ़ जाएगा | एक समूह की कहानी पूर्ण हो जाने के उपरांत अन्य समूह को अवसर प्रदान किया जाएगा |

पुस्तकालय गतिविधि :

चौदहवें सप्ताह के लिए सभी विद्यार्थियों को पुस्तके प्रदान की जानी है | चूंकि इस वर्ग का चौदहवाँ सप्ताह गांधीजी से संबंधित पाठ्य-लेख्य सामग्री पर आधारित होगा अत: प्रयास करें कि विद्यार्थियों को प्रदान की जाने वाली पुस्तक गांधीजी से संबंधित ही हो |

नोट : पिछले वर्ष राजस्थान के प्रत्येक विद्यालय को समग्र शिक्षा अभियान द्वारा कुल 72 लघु-पुस्तिकाएं वितरित की गयी हैं, जिनमें से 32 पुस्तकें गांधीजी से संबंधित विषय-वस्तु पर आधारित हैं |


Useful Links :


------------------------------------------
CCE / SIQE Time Table
------------------------------------------
CCE / SIQE Student Profile Portfolio
------------------------------------------
CCE / SIQE Baseline Test Papers
------------------------------------------
CCE / SIQE Worksheet / Practice Papers
------------------------------------------
CCE / SIQE Formative Assessment Papers
------------------------------------------
CCE / SIQE Summative Assessment Papers
------------------------------------------
CCE / SIQE Result Sheets
------------------------------------------
Teachers Portal
------------------------------------------
Shaladarshan / Shaladarpan Portal
------------------------------------------
Mid Day Meal Portal
------------------------------------------